बुराड़ी मामला: भाटिया परिवार पर भारी पड़ा अंधविश्वास! एक ‘चमत्कार’ ने भटकाई राह

0
447

दिल्ली के बुराड़ी इलाके में संत नगर के एक घर में रविवार को एक साथ 11 लोगों की मौत से सनसनी फैल गई है। भाटिया परिवार के सभी सदस्यों के शव घर में ही मिले हैं। मरने वालों में से नौ की आंखों पर पट्टी बंधी थी और वे घर की पहली मंजिल पर लॉबी के जाल से लटके हुए थे। इस परिवार के रिश्तेदार और पड़ोसियों का कहना है कि दस साल पहले हुए एक हादसे और ‘चमत्कार’ की वजह से यह परिवार ज्यादा आस्थावान हो गया था। पुलिस को भी इस मामले में काले जादू के चक्कर का अंदेशा है। पुलिस टीम इसी बिंदु को भी आधार बनाकर मामले की जांच आगे बढ़ा रही है। पुलिस ने भाटिया परिवार की एक डायरी भी बरामद की है, जिसमें भगवान के दर्शन करने के लिए दस बातें लिखी हुई हैं। यह डायरी घर में बने पूजा कमरे में रखी हुई थी। इसी के आधार पर ही पुलिस हत्याकांड में तंत्र-मंत्र, कलयुगी बाबा व काले जादू का अंदेशा जता रही है। रिश्तेदारों का कहना है कि भाटिया परिवार दस साल पहले हुए एक हादसे और ‘चमत्कार’ की वजह से और ज्यादा आस्थावान हो गया था। भाटिया परिवार के ललित भाटिया दस साल पहले एक हादसे का शिकार हो गए थे। परिवार के करीबी दोस्त हेमंत शर्मा के मुताबिक ललित प्लाइवुड का बिजनेस करते थे और उन पर लकड़ियों का गट्ठर गिर गया था। शर्मा ने बताया, ‘इसकी हादसे में ललित की आवाज चली गई थई। परिवार ने हर तरीके से उनका इलाज करवाया, लेकिन किसी भी तरह का इलाज काम नहीं आया तो उन्होंने ज्यादा पूजा-पाठ करना शुरु कर दिया। जब ललित की आवाज वापस आ गई तो परिवार पूरा आध्यात्मिक हो गया।’ एक अन्य ने बताया कि ‘रोजाना उनके परिवार में से कोई एक प्लाइवुड पर धार्मिक उद्धरण लिखता था और उसे दुकान के बाहर टांग देता था।’ अंदेशा ये लगाया जा रहा है कि भाटिया परिवार ने इस हादसे और ‘चमत्कार’ की वजह से ‘अंधविश्वास’ की राह पकड़ ली थी। मामले की जांच कर रहे एडिशनल डीसीपी विनीत कुमार के मुताबिक, घर की तलाशी के दौरान एक डायरी में कुछ हस्तलिखित नोट्स मिले हैं, जिससे ऐसा प्रतीत होता है कि पूरा परिवार कोई विशेष आध्यात्मिक, धार्मिक प्रयास के आधार पर भगवान के दर्शन करने का अभ्यास कर रहा था। खास बात यह है कि जो कुछ भी इस डायरी के नोट्स में लिखा है, कमोबेश उसी तरीके से भाटिया परिवार के सभी सदस्यों के मुंह व आंखों पर पट्टी बंधी थी और उन पर टेप चिपका हुआ था। पुलिस इसी पहलू को ध्यान में रखते हुए मौत की असली वजहों का पता लगाने में जुटी है।
भगवान का दर्शन करने के लिए डायरी में लिखी गईं वे दस बातें-
– भगवान का दर्शन करने के लिए घर में शांति बनाना है और मौन व्रत धारण करना है।
– प्रभु के मार्ग में जाने के दौरान किसी तरह के शोर-शराबे से बचने के लिए मोबाइल स्विच ऑफ कर लेना है।
– हरि दर्शन के उपाय खासतौर से मंगलवार, शनिवार या फिर रविवार को ही करना है।
– इनमें से जिस दिन भी भगवान का दर्शन करना हो, उस दिन बताए नियम व उपायों का पूरी तरह से पालना जरूरी है।
– इस नियम में अपने कान में रूई डालना है, ताकि परिवार के सदस्य एक दूसरे की आवाज तक न सुन सकें। घर में एकदम शांति हो।
– प्रभु दर्शन के लिए नियम के तहत, अपनी-अपनी आंखों में पट्टी बांधना है, ताकि कोई एक दूसरे को देख न सके।
– भगवान दर्शन की क्रिया के पहले हवन करना है। (लोहे के हवन कुंड में अनुष्ठान करने के सबूत मिले हैं।)
– भगवान दर्शन के लिए हाथ-पैर बांधते हुए रस्सी से लटकते वक्त झटपटाहट होने पर घबराना नहीं है। क्योंकि भगवान दर्शन देंगे।
– हवन के बाद भगवान दर्शन क्रिया शुरू करते वक्त घर की विधवा महिलाएं परिवार से कुछ दूर यह सब करेंगी।
– भगवान का दर्शन करने के बाद आप को सांसारिक दुखों से मुक्ति मिल जाएगी।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here