FIFA WC 2018: पिछले 13 मैचों से अपराजेय रहे स्पेन को रशिया देगा चुनौती

0
54

लगातार 13 मैचों में न हारने वाला विश्वविजेता स्पेन को आज मेजबान रशिया से कड़ी चुनौती मिलने की उम्मीद है। अब तक दोनेां देश किसी भी विश्वकप में आपस में आमने-सामने नहीं हुए।, लेकिन 2017 में रशिया स्पेन से एक दोस्ताना मुकाबले में ड्रॉ खेल चुका है। दर्शकों का सपोर्ट और ग्रुप स्टेज में दो शानदार जीत से उत्साहित रशिया स्पेन को कड़ी चुनौती पेश कर सकता है। वहीं विश्वकप क्वालीफाइंग में स्पेन की शानदार जीत और अनुभव का पूरा लाभ स्पेन को मिलेगा। दोनों मैच रविवार को खेले जाएंगे। स्पेन सितंबर 2017 से अब तक वर्ल्ड कप क्वालीफाइंग और दोस्ताना मुकाबले मिलाकर कुल 13 मैच खेल चुका है। इसमें से एक भी में उसे हार नहीं मिली। उसके 5 मुकाबले ड्रॉ रहे हैं और 8 में जीत मिली है। स्पेन और रशिया के बीच 14 नवंबर 2017 में एक दोस्ताना मुकाबला खेला गया था। इसमें दोनों देशों ने 3-3 का ड्रॉ खेला था। सितंबर 2017 से लेकर अब तक स्पेन अर्जेनटीना कोस्टारिका, इटली, अल्बानिया जैसे देशों को बड़े अंतर से हरा चुका है। इन आंकड़ों को देखते हुए फीफा रैंकिंग में 10वें स्थान पर काबिज स्पेन 70वें स्थान के रशिया पर भारी पड़ता दिख रहा है, लेकिन ग्रुप स्टेज में सउदी अरब को 5-0 और मिस्र को 3-1 से मात देने वाला रशिया भी अपनी ताकत दिखा चुका है। वहीं मेजबान होने का लाभ भी उसे दर्शकों के रुप में मिलेगा। वहीं रशिया मैच से पहले यह भी याद रखना चाहेगा कि पिछले वर्ष उसने स्पेन से ड्रॉ भी खेला था। विश्वकप से पहले रशिया ने कंफेडरेशन कप, दोस्ताना और विश्वकप क्वालीफाइंग में न्यूजीलैंड, साउथ कोरिया, आदि देशों को हरा चुका है। पूर्व अंतरराष्ट्रीय फुटबॉलर अनादि बरुआ बताते हैं कि स्पेन के पास लंबा अनुभव है। उनके सर्जियो रामोस, सहित कई अनुभवी खिलाड़ी हैं। ऐसे में स्पेन को हराना रशिया के लिए काफी मुश्किल दिख रहा है, लेकिन रशिया को ग्रुप स्टेज में मिली जीत और मेजबान होने का फायदा भी है। वहीं विश्वकप जैसे टूर्नामेंट में कोई भी हार जीत सकता है। वह भी उस समय जब लगातार उलटफेर हो रहे हों। क्रोएशिया और डेनमार्क भी विश्वकप में पहली बार आमने सामने होंगे। ऐसे में दोनों देशों के बीच रोमांचक मुकाबला होने की उम्मीद है। क्रोएशिया की फीफा रैंकिंग 20 है और इस देश ने ग्रुप स्टेज में विश्वविजेता अर्जेनटीना को 3-0 और नाइजीरिया को 2-0 से हराया है। वहीं डेनमार्क की वर्तमान फीफा रैंकिंग 12 है। इस देश की टीम ने भी दो ड्रॉ और एक जीत के साथ प्री क्वार्टर फाइनल में पहुंचा है। दोनों टीमें को मजबूती के लिहाज से बराबर माना जा रहा है। ऐसे में डेनमार्क और क्रोएशिया में जोरदार मुकाबला होने की उम्मीद की जा रही है। पूर्व अंतरराष्ट्रीय फुटबॉलर अनादि बरुआ बताते हैं कि दोनों देश गुणवत्ता के लिहाज से बराबर हैं। हालांकि इस विश्वकप में क्रोएशिया ने शानदार प्रदर्शन किया है। ऐसे में क्रोएशिया थोड़ा बेहतर दिख रहा है, लेकिन दोनों के बीच कड़ी टक्कर होगी।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here