पहलः हिंद-प्रशांत क्षेत्र पर फोकस, चीन से ‘समुद्री वार्ता’ करेगा भारत

0
76

भारत ने एक अहम कदम उठाते हुए चीन के साथ एक ‘द्विपक्षीय’ समुद्री वार्ता का प्रस्ताव किया है। इसका उद्देश्य हिंद-प्रशांत क्षेत्र में एक साझा आधार तलाशना है, जहां तेजी से सुरक्षा परिदृश्य उभर रहे हैं। सूत्रों ने बताया कि चीन के साथ समुद्री वार्ता अगले एक-दो हफ्तों में हो सकती है। उन्होंने बताया कि हिंद – प्रशांत के लिए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के एक व्यापक विजन के तहत समुद्री वार्ता की पहल की जा रही है। प्रधानमंत्री ने सिंगापुर में पिछले महीने शांगरी – ला वार्ता में अपने संबोधन में इसका जिक्र किया था। यह कदम काफी मायने रखता है क्योंकि भारत शक्तिशाली चतुर्भुज (भारत , अमेरिका , आस्ट्रेलिया और चीन) गठबंधन का हिस्सा है , जिसे पिछले साल नवंबर में आकार दिया गया था। इसका उद्देश्य प्राथमिक रूप से हिंद – प्रशांत में अहम समुद्री मार्गों को मुक्त बनाना है। भारत ने रूस के साथ भी इसी तरह की समुद्री वार्ता का प्रस्ताव किया है। एक सूत्र ने बताया, ”हमारी कोशिश क्षेत्र में सामंजस्य बनाने के लिए बड़ी शक्तियों के साथ काम करने की है। गौरतलब है कि भारत ने हाल ही में इंडोनेशिया और फ्रांस के साथ समुद्री वार्ता की है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here