सफलताः अंतरिक्ष में इसरो के मानव मिशन को बड़ी कामयाबी, उड़ने के 259 सेकेंड बाद बंगाल की खाड़ी में उतरा

0
152

भारतीय अंतरिक्ष अनुसंधान संगठन (इसरो) के वैज्ञानिकों को अंतरिक्ष में मानव मिशन भेजने की तैयारियों में बड़ी कामयाबी मिली है। वैज्ञानिकों ने अंतरिक्ष प्रक्षेपण यान से क्रू वाले हिस्से को अलग करने का सफल परीक्षण किया। क्रू मॉड्यूल में ही अंतरिक्ष यात्री सवार होते हैं। इसरो के वैज्ञानिकों ने गुरुवार को श्रीहरिकोटा स्थित सतीश धवन अंतरिक्ष केंद्र से इसका सफल परीक्षण किया। सुबह करीब सात बजे रॉकेट ने क्रू मॉड्यूल लेकर उड़ान भरी। करीब 259 सेकेंड बाद क्रू वाला हिस्सा इससे सफलतापूर्वक अलग हो गया। इसका वजन करीब 12.6 टन था। परीक्षण की इस पूरी प्रक्रिया को रिकॉर्ड करने के लिए करीब 300 सेंसर और समुद्र में तीन नौकाएं तैनात की गई थीं। इसरो के अनुसार, करीब 2.7 किमी ऊंचाई तक उड़ान भरने के बाद क्रू मॉड्यूल अंतरिक्ष यान से अलग किया गया। श्रीहरिकोटा से करीब 2.9 किमी दूर इसे बंगाल की खाड़ी में उतारा गया। इसरो के अनुसार, अंतरिक्ष यान के उड़ान भरने के दौरान कोई दिक्कत होती है तो उसमें से क्रू मॉड्यूल स्वत: अलग हो जाता है। इसे क्रू इस्केप सिस्टम कहा जाता है। यह परीक्षण अभी उड़ान भरने के दौरान के लिए किया गया था। अब ऐसा ही परीक्षण उड़ान के दौरान भी किया जाएगा। इसरो इन परीक्षणों के बाद जब इसरो मानव मिशन भेजने में सक्षम महसूस करेगा तो वह इसका विस्तृत प्रोजेक्ट तैयार करेगा। इसरो ने अंतरिक्ष में मानव मिशन भेजने की कोई तारीख अभी निश्चित नहीं की है। लेकिन उसका लक्ष्य 2024 से पहले इसे पूरा कर लेने का है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here