मां और दो मासूम बच्चों को जिंदा जलाया, चीखें सुन दहल उठा दिल

0
76

मांडा में पारिवारिक विवाद के बाद एक महिला और उसके दो मासूम बच्चों को जिंदा फूंक दिया गया। गुरुवार आधी रात पड़ोसियों ने मासूमों की चीखें सुनीं तो उनका दिल दहल उठा। पुलिस ने मृतका की मां की तहरीर पर पति समेत पांच के खिलाफ हत्या व दहेज हत्या का केस दर्ज कर लिया गया है। फिलहाल सास-ससुर, जेठ-जेठानी को हिरासत में ले लिया गया है। मांडा के कोईलारी गांव निवासी शिव बहादुर मुम्बई में नौकरी करता है। गुरुवार रात उसके पिता राज कुमार व मां रामरति देवी घर के बाहर सो रहीं थी। पत्नी गीता देवी तीन साल के बेटे कान्हा व 15 दिन के नवजात को लेकर कमरे में सो रही थी। शिव बहादुर के बड़े भाई राम बहादुर व भाभी मीना दूसरे कमरे में थे। रात में करीब दो बजे पड़ोसी राम खेलावन ने शिव बहादुर के घर से बच्चों के चीखने की आवाज सुनीं तो चौंककर उठ गया। उसने पड़ोसी शंकर लाल को भी बुला लिया। पड़ोसी भागकर शिव बहादुर के घर पहुंचे। उस वक्त कमरे से धुआं निकल रहा था। कमरे में चारपाई के नीचे गीता और उसके दोनों बच्चों की जली हुई लाश पड़ी थी। इस घटना से वहां हड़कंप मच गया। जानकारी पर ग्राम प्रधान भी थोड़ी देर में पहुंच गए। वारदात की जानकारी गीता की मां लालती देवी निवासी मिर्जापुर को दी गई। शुक्रवार सुबह लालती देवी मांडा पुलिस के साथ मौके पर पहुंची और ससुरालवालों पर ही दहेज हत्या का आरोप लगाया। तीहरे हत्याकांड की सूचना मिलते ही आईजी रमित शर्मा भी मौके पर पहुंचे और फोरेंसिक टीम की मदद से पड़ताल की। कमरे में कोई दूसरा सामान नहीं जला था। वहीं मिट्टी का तेल रखा था। गीता के ससुरालवालों का कहना था कि उसने आत्महत्या की है। पुलिस ने गीता की मां की तहरीर पर पति, सास-ससुर, जेठ व जेठानी के खिलाफ दहेज हत्या व हत्या की धाराओं में मुकदमा दर्ज कर लिया है। फिलहाल पति के अलावा अन्य आरोपियों को हिरासत में ले लिया गया है। पोस्टमार्टम रिपोर्ट से पता चला कि तीनों की मौत जलने से ही हुई है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here