माफिया डॉन मुन्ना बजरंगी की जेल में हत्या, जानिए 10 खास बातें

0
206

पूर्वांचल के कुख्यात माफिया सरगना प्रेम प्रकाश सिंह उर्फ मुन्ना बजरंगी की सोमवार सुबह बागपत जेल में गोली मारकर हत्या कर दी गई। मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने कारागार के अंदर हुई इस वारदात को गम्भीरता से लेते हुए न्यायिक जांच के आदेश दिये हैं। यहां जानिए मामले से जुड़ी 10 खास बातें
1. सुनील राठी पर शक की सुई
राज्य के पुलिस उपमहानिरीक्षक (कानून एवं व्यवस्था) प्रवीण कुमार ने बताया कि माफिया डॉन बजरंगी की सुबह ताबड़तोड़ गोलियां मारकर हत्या कर दी गयी। शुरुआती जांच में हत्या में कुख्यात अपराधी सुनील राठी का नाम सामने आ रहा है। हालांकि मामले की जांच की जा रही है।
2. सोमवार को ही बजरंगी की होनी थी पेशी
पुलिस ने बताया कि बागपत पुलिस के अनुसार पूर्व बसपा विधायक लोकेश दीक्षित से रंगदारी मांगने के आरोप में सोमवार को ही बागपत की एक अदालत में बजरंगी की पेशी होनी थी। इसके लिये उसे रविवार को झांसी जेल से बागपत लाया गया था। वह तत्कालीन भाजपा विधायक कृष्णानन्द राय की हत्या के मामले में भी आरोपी था।
3. न्यायिक जांच के निर्देश
मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने इस घटना को गम्भीरता से लेते हुए कहा कि वारदात के बारे में उन्होंने पुलिस महानिदेशक और गृह विभाग के प्रमुख सचिव से बात की है। इस प्रकरण में पहली नजर में जेलर के खिलाफ अनुशासनात्मक कार्रवाई करने के आदेश दिये गये हैं। साथ ही न्यायिक जांच के निर्देश भी दिये गये हैं। इसके बाद आगे की कार्यवाही की जाएगी। उन्होंने कहा कि माफिया बजरंगी अनेक आपराधिक मामलों में लिप्त था, लेकिन जेल के अंदर इस तरह की घटना बेहद गम्भीर है। हम इसकी तह में जाएंगे, जो भी दोषी होगा, उसके खिलाफ ठोस कार्रवाई करेंगे।

4. जेलर-डिप्टी जेलर सहित 4 कर्मचारी निलंबित
इधर, गृह विभाग के प्रमुख सचिव अरविन्द कुमार ने लखनऊ में बताया कि बजरंगी की जेल में हत्या के मामले में जेलर उदय प्रताप सिंह, डिप्टी जेलर शिवाजी यादव, हेड वार्डेन अरजिन्दर सिंह और वार्डेन माधव कुमार को निलम्बित कर दिया गया है। उन्होंने बताया कि राष्ट्रीय मानवाधिकार आयोग के पूर्वनिर्धारित निर्देशों के अनुसार मामले की न्यायिक जांच की जा रही है।
5. पत्नी ने जताया था हत्या का शक, कुछ दिनों पहले हुई थी साले की हत्या
पिछले दिनों मुन्ना बजंरगी की पत्नी ने अपने पति की हत्या कराये जाने की आशंका जताते हुए उसकी सुरक्षा बढ़ाने की मांग की थी। पिछले दिनों लखनऊ में हुई गैंगवार में बजरंगी के साले पुष्पजीत सिंह की हत्या कर दी गई थी।
6. मुन्ना पर दर्ज थे कई गंभीर मामले
कुख्यात हिस्ट्रीशीटर रहे मुन्ना बजरंगी पर हत्या लूट तथा अपहरण समेत अनेक जघन्य अपराधों के बड़ी संख्या में मुकदमे दर्ज थे।
7. 17 साल की उम्र में रखा था जुर्म की दुनिया में कदम
1984 में मुन्ना ने लूट के लिए एक व्यापारी की हत्या कर दी। उसके मुंह खून लग चुका था. इसके बाद उसने गजराज के इशारे पर ही जौनपुर के भाजपा नेता रामचंद्र सिंह की हत्या करके पूर्वांचल में अपना दम दिखाया। उसके बाद उसने कई लोगों की जान ली। 29 नवंबर 2005 को माफिया डॉन मुख्तार अंसारी के कहने पर मुन्ना बजरंगी ने गाजीपुर से विधायक कृष्णानंद राय को दिन दहाड़े मौत की नींद सुला दिया।
8. 7 लाख का इनाम
मुन्ना बजरंगी पर 7 लाख का इनाम रखा गया था। पुलिस, STF की दबिश के बीच वह मुंबई भाग गया। उसे 29 अक्टूबर 2009 को मुंबई के मलाड से गिरफ्तार किया गया था. तब से अलग-अलग जेलों में रखा जा रहा था।
9. 20 साल में 40 हत्याएं
मुन्ना बजरंगी ने एक बार दावा किया था है कि उसने अपने 20 साल के आपराधिक जीवन में 40 हत्याएं की हैं।
10. कई बार दे चुका था मौत को मात
मुन्ना बजरंगी को दिल्ली और यूपी पुलिस की संयुक्त टीम ने 20 साल पहले ही एनकाउंटर में मार गिराने का दावा किया था। बजरंगी के मारे जाने की खबर भी प्रसारित हो गई थी। लेकिन अस्पताल पहुंचते ही उसने आंखें खोल दी। दिल्ली के तीस हजारी कोर्ट में पेशी के दौरान भी बजरंगी पर हमला हुआ। उसे जहर वाला इंजेक्शन मारने की कोशिश हुई। इससे वह बेहोश भी हो गया। दोबारा अस्पताल आने के बाद ठीक हुआ।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here