रूस में जारी फीफा वर्ल्ड कप अपने आखिरी पड़ाव पर पहुंच गया है। 32 टीमों से शुरू हुआ सफर अब चार टीमों तक सिमट गया है। फीफा वर्ल्ड कप का पहला सेमीफाइनल मैच आज फ्रांस और बेल्जियम के बीच खेला जाना है। मैच से जुड़े कई स्टैट्स हैं, जो इस मैच से पहले आपके लिए जानना बेहद जरूरी है। फीफा वर्ल्ड कप की खबरें पढ़ने के लिए यहां CLICK करें एक नजर दोनों टीमों के आंकड़ों पर… बेल्जियम -बेल्जियम दूसरी बार विश्वकप के सेमीफाइनल में पहुंचा है। इससे पहले वो 1986 में अर्जेंटीना से हार गया था, तब अर्जेंटीना की टीम ने खिताब जीता था। -रॉबर्टो मार्टिनेज की टीम 23 मैचों से अजेय है। उसकी आखिरी हार यूरो 2016 में वेल्स के हाथों क्वॉर्टरफाइनल में थी। -बेल्जियम ने इस वर्ल्ड कप में किसी अन्य टीम के मुकाबले सबसे ज्यादा 14 गोल किए हैं। FIFA 2018: वर्ल्ड कप से बाहर हुई स्पेन की टीम को मिला बार्सिलोना का कोच! FIFA WC: पहली ट्रॉफी की होड़ में लगी टीमें, पूर्व चैंपियनों से करेंगी भिड़ंत -बेल्जियम के इस विश्वकप में आत्मघाती गोल को छोड़कर नौ अलग-अलग गोल स्कोरर हैं। इससे पहले केवल इटली ने 2006 और फ्रांस ने 1982 में एक टूनार्मेंट में 10 अलग-अलग स्कोरर दिए थे। -रोमेलू लुकाकू ने बेल्जियम के लिए अपने पिछले 13 मैचों में 17 गोल किए हैं और तीन गोलों में मदद की है। -बेल्जियम के फुल बैक थॉमस मियूनियर इस मुकाबले में नहीं खेल पाएंगे। उन्हें ब्राजील के खिलाफ क्वॉर्टरफाइनल मैच में दूसरा येलो कार्ड मिला था जिससे वो इस मैच से बाहर हो गए। फ्रांस -फ्रांस छठी बार विश्वकप के सेमीफाइनल में पहुंचा है। वो 1998 और 2006 में फाइनल में पहुंचा था और 1998 में विजेता बना था। -डिडियर डीशैंप्स की टीम ने टूर्नामेंट में टारगेट पर अपने पिछले छह शॉट में सभी पर गोल किए हैं। -एंटोन ग्रिजमैन ने किसी मेजर टूर्नामेंट के नॉकआउट चरण में अपनी पिछली छह मौजूदगी में सात गोल किए हैं। -फ्रांस ने टूर्नामेंट में अपने पांच मैचों में सिर्फ चार गोल खाए हैं। बेल्जियम बनाम फ्रांस इन दोनों यूरोपीय प्रतिद्वंद्वियों का आपसी मुकाबलों का लंबा इतिहास रहा है। दोनों के बीच 73 बार मुकाबला हुआ है जिसमें फ्रांस 24 बार जीता है जबकि बेल्जियम को 30 जीत हाथ लगी है और उनके बीच 19 मुकाबले ड्रॉ रहे हैं।

0
119

फुटबॉल वर्ल्ड कप की चार सेमीफाइनलिस्ट टीम तय हो गई हैं। इन टीमों में से दो वो हैं जो पहले भी यह खिताब अपने नाम कर चुकी हैं। वहीं दो टीमें सेमीफाइनल से आगे कभी नहीं बढ़ पाई हैं। फ्रांस ने 1998 में विश्वकप का अपना पहला खिताब जीता था। ऐसे में अगर यह टीम फाइनल में प्रवेश कर विजेता बनती है तो 20 साल बाद फ्रांस को विश्व कप की ट्रॉफी मिलेगी। इंग्लैंड की जीत पर 66 साल बाद इस देश को यह सौभाग्य मिलेगा। तीसरी सेमीफाइनलिस्ट क्रोएशिया और चौथी बेल्जियम की टीम है। क्रोएशिया 1998 में उम्दा खेल का प्रदर्शन करते हुए तीसरा स्थान हासिल कर फुटबॉल की नई शक्ति के रूप में उभरा था, लेकिन इसके बाद यह टीम इसी विश्वकप में असाधारण प्रदर्शन कर पाई है। वहीं बेल्जियम 1986 विश्वकप में चौथा स्थान हासिल करने में सफल रहा था। इसके बाद 2018 में ही टीम सेमीफाइनल में पहुंची है। ऐसे में खिताबी जीत दर्ज कर टीम अपने पहले वर्ल्ड कप खिताब पर कब्जा करना चाहेगी। बेल्जियम इस विश्वकप में अपने सभी 5 मैच में जीत दर्ज कर चुका है। सेमीफाइनल में प्रवेश करने वाली इंग्लैंड को भी इस टीम ने ग्रुप स्टेज में हराया है। ऐसे में इस टीम के प्रदर्शन को देखते हुए खिताब का प्रबल दावेदार भी माना जा रहा है।वहीं क्रोएशिया भी विश्वकप के सभी 5 मैच जीतकर दूसरी बार विश्वकप के सेमीफाइनल में प्रवेश किया है। ऐसे में इस टीम के खिलाड़ी भी जोरदार फॉर्म में है। इंग्लैंड ने 1966 में अपना इकलौता विश्वकप खिताब जीता था। अगर इंग्लैंड विश्वकप जीतने में कामयाब होता है तो 52 साल बाद विश्वकप ट्रॉफी चूमने का मौका मिलेगा। इस विश्वकप में इंग्लैंड 5 में से चार में जीत दर्ज कर सेमीफाइनल तक प्रवेश किया है। इस विश्वकप में फ्रांस भी अभी किसी टीम से नहीं हारा। पांच में से चार में जीत दर्ज की है और एक ड्रॉ खेला है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here