बुराड़ी सुसाइड केस में एक और दावा, बीड़ी वाले बाबा से मिलता था भाटिया परिवार

0
201

दिल्ली के बुराड़ी इलाके में एक घर से एक ही परिवार के निकले ग्यारह शव ने जहां पूरे देश को हिलाकर रख दिया तो वहीं पुलिस और सुरक्षा एजेंसियों को भी सन्न करके रख दिया था। इसकी पड़ताल में हर रोज नए-नए खुलासे सामने आ रहे हैं और अब तक हुई पड़ताल में कई बातें अब तक निकलकर सामने आयी है। लेकिन, मंगलवार को एक अज्ञात शख्स ने पुलिस को जो चिट्ठी लिखी है वह और भी चौंकाने वाला है। पुलिस कमिश्नर को लिखी चिट्ठी में उस अज्ञात शख्स ने यह दावा किया है कि भाटिया परिवार और किसी तांत्रिक के बीच संपर्क था और परिवार लगातार उस बाबा से सलाह मशविरा कर रहा था। पुलिस को बुराड़ी में ग्यारह लोगों की मौत के मामले में अभी तक अपनी जांच में किसी बाहरी व्यक्ति या किसी तांत्रिक का हाथ होने का सबूत तो नहीं मिला है। लेकिन इस अज्ञात शख्स चिट्ठी ने फिर से बुराड़ी सुसाइड में नया मोड़ ला दिया है। खबरों के मुताबिक, ऐसा कहा जा रहा है कि पुलिस कमिश्नर को यह बिना नाम की चिट्ठी 3 जुलाई को लिखी गई है। चिट्ठी लिखने वाले शख्स का कहना है कि बुराड़ी में जिस परिवार के 11 लोगों ने धार्मिक अंधविश्वास में फंसकर मोक्ष पाने की कामना से सामूहिक आत्महत्या की, वह दिल्ली के ही किसी बाबा के संपर्क में था।अनाम लिखी गई इस चिट्ठी में उस शख्स ने किसी बीड़ी वाले बाबा का जिक्र है। चिट्ठी लिखने वाले का दावा है कि बुराड़ी के भाटिया परिवार का इस तांत्रिक के पास आना जाना था। चिट्ठी में बताया गया है कि दिल्ली के कराला में रहने वाले इस तांत्रिक का असली नाम चंद्रप्रकाश पाठक है। दिल्ली के कराला इलाके में बीड़ी वाले और दाढ़ी वाले बाबा के नाम से मशहूर है यह तांत्रिक चंद्रप्रकाश पाठक। चिट्ठी के मुताबिक, बीड़ी वाले बाबा अपने आप को हनुमान का भक्त कहता है और शाम 6 बजे तक झाड़ फूंक करता है। इतना ही नहीं, इस बाबा की पत्नी भी तांत्रिक है। चिठ्ठी लिखने वाले अज्ञात शख्स ने यह दावा किया है कि बुराड़ी में भाटिया परिवार के जिन 11 लोगों की मौत हुई है उनमें से कईयों को उसने बीड़ी वाले तांत्रिक बाबा के पास जाते हुए देखा है। चिठ्ठी में पुलिस से अपील की गई है कि इन मौतों के पीछे बाबा का हाथ हो सकता है इसलिए इसकी जांच की जाए।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.