8 साल की नजरबंदी के बाद नोबल प्राइज विनर शियाओबो की विधवा ने चीन छोड़ा

0
48

नोबेल पुरस्कार से सम्मानित चीन के असंतुष्ट कार्यकर्ता लियू शियाओबो की विधवा लियू शिया ने चीन छोड़ दिया है। उनके एक पारिवारिक मित्र ने बताया लियू फिलहाल देश के बाहर विमान में हैं। लियू शियाओबो को जब वर्ष 2010 का नोबेल शांति पुरस्कार मिला, तब से लियू को नजरबंद रखा गया है जबकि उन पर कोई आरोप नहीं है। उनके मित्र ये दू ने बताया, ”आज पूर्वाह्न करीब 11 बजे लियू शिया फिनेयर विमान से बीजिंग से रवाना हो गईं। लियू शियाओबो 1989 के तियानआनमान चौराहे पर हुए प्रदर्शन के अगुआ थे। ” राष्ट्रविरोधी कार्रवाई के आरोप में 11 साल जेल की सजा काट रहे शियाओबो का पिछले साल निधन हो गया। नात्सी जर्मनी के काल के बाद वह ऐसे पहले नोबेल पुरस्कार विजेता हैं जिनकी मौत जेल में हुई। जर्मन दूतावास ने अप्रैल में लियू शिया को जर्मनी आने में मदद की पेशकश की थी। लेकिन यह अंजाम नहीं पा सका। शियाओबो दूसरे ऐसे नोबेल शांति पुरस्कार विजेता थे जिनका हिरासत में निधन हुआ। इससे पहले 1938 में जर्मनी में नाजी शासन के दौरान कार्ल वोनल ओसीत्जकी का निधन एक अस्पताल में हुआ था और वह भी हिरासत में थे।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here