पाकिस्तानः चुनावी रैली में आत्मघाती विस्फोट से 20 लोगों की मौत

0
43

पाकिस्तान के पेशावर शहर में एक चुनावी सभा के दौरान तालिबान के एक आत्मघाती हमलावर ने स्वयं को विस्फोट करके उड़ा लिया। इस हमले में अवामी नेशनल पार्टी (एएनपी) के वरिष्ठ नेता हारून बिल्लौर सहित कम से कम 20 लोगों की मौत हो गई और 66 लोग घायल हो गए। बता दें कि 25 जुलाई को आम चुनाव से पहले किसी राजनीतिक दल पर होने वाला यह दूसरा आतंकवादी हमला है। यह विस्फोट कल आधी रात से ठीक पहले हुआ जब बिल्लौर एएनपी के अन्य कार्यकर्ताओं के साथ भीड़भाड़ वाले याकातूत इलाके में पार्टी की एक बैठक के लिए एकत्रित हुए थे। बिल्लौर पेशावर शहर के पीके..78 सीट से चुनाव लड़ रहे हैं। विस्फोट बिल्लौर के वाहन के पास हुआ। बिल्लौर के पिता एवं एएनपी के वरिष्ठ नेता बशीर बिल्लौर भी 2012 में पेशावर में पार्टी की एक बैठक के दौरान तालिबान द्वारा किये गए इसी तरह से हमले में मारे गए थे। लेडी रीडिंग अस्पताल के प्रवक्ता जुल्फीकार अली बाबा खेल ने बताया कि शुरुआत में मृतकों की संख्या 13 बताई गई थी लेकिन रात भर में मरने वालों की संख्या बढ़कर 20 हो गई। हमले की जिम्मेदारी तहरीके तालिबान पाकिस्तान ने ली है।
टीटीपी प्रवक्ता मोहम्मद खुरासनी ने एएनपी नेता बिल्लौर को निशाना बनाने वाले आत्मघाती हमलावर का नाम मुजाहिद अब्दुल करीम बताया। विस्फोट में बिल्लौर गंभीर रूप से घायल हो गए थे। उन्हें अस्पताल ले जाया गया जहां उन्होंने दम तोड़ दिया। खुरासनी ने कहा, ”यह एएनपी शासन के दौरान बड़ी संख्या में मुजाहिद्दीनों (आतंकवादियों) की हत्या का बदला है।
उसने कहा कि धर्मनिरपेक्ष दल एएनपी पार्टी टीटीपी के निशाने पर रहेगी। बम निष्क्रिय दस्ते के प्रमुख शफकत मलिक ने कहा कि विस्फोट में आठ किलोग्राम टीएनटी विस्फोटक का इस्तेमाल हुआ। बिल्लौर को आज सैय्यद हसन पीर कब्रिस्तान में दफना दिया गया। पेशावर में उनके जनाजे में हजारों लोग शामिल हुए। जनाजे के लिए तीन स्तरीय सुरक्षा योजना तैयार की गई थी। पेशावर शहर पुलिस के पुलिस अधिकारी काजी जमील ने कहा कि प्रांतीय पुलिस प्रमुख ने आतंकवाद निरोधक विभाग के उप महानिरीक्षक के नेतृत्व में पांच सदस्यीय संयुक्त जांच दल का गठन किया है। इस टीम को घटना की जांच करके एक सप्ताह के भीतर देने को कहा गया है। पाकिस्तान के मुख्य चुनाव आयुक्त सरदार मोहम्मद रजा ने हमले की निंदा की है। उन्होंने कहा, ”यह हमारे सुरक्षा संस्थानों की कमजोरी और पारदर्शी चुनाव के खिलाफ एक षड्यंत्र दिखाता है। आयोग ने पीके ..78 सीट के लिए चुनाव टाल दिया है। नयी तारीख की घोषणा बाद में की जाएगी।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here