GST स्लैब बदलने की तैयारी में सरकार, दरों को सरल बनाने पर होगा विचार

0
77

जीएसटी परिषद की इस हफ्ते के अंत में होने वाली बैठक में जीएसटी कर (TAX) के स्लैबों में बदलाव हो सकता है। वित्त राज्य मंत्री शिव प्रताप शुक्ल ने सोमवार को इसकी जानकारी देते हुए कहा कि अगली बैठक में दरों को सरल बनाने पर विचार किया जाएगा। परिषद की अगली बैठक 21 जुलाई को होने वाली है। उन्होंने कहा कि जरूरत के हिसाब से परिषद समय-समय पर दरों की समीक्षा करती रहती है। सरकार का उद्देश्य जीएसटी को सरल-से सरल बनाना और लोगों को अधिकतम राहत देना है। जीएसटी के तहत अभी चार कर स्लैब हैं। सबसे निचला स्लैब पांच प्रतिशत का है, जबकि उच्चतम स्लैब 28 प्रतिशत का है। शुरू से ही जीएसटी में स्लैबों की संख्या कम करने की मांग उठती रही है। इसके पक्षधरों का कहना है कि कई स्लैब होने से एक कर का उद्देश्य पूरा नहीं होता। एयरलाइन कंपनियों का वैश्विक संगठन आईएटीए ने अंतरराष्ट्रीय हवाई टिकटों पर माल एवं सेवा कर (जीएसटी) लगाये जाने का विरोध किया है। संगठन का कहना है कि यह कई वैश्विक समझौतों के खिलाफ है जिसमें भारत भी पक्षकार है। आईएटीए दुनिया के विभिन्न हिस्सों में 280 एयरलाइंस का प्रतिनिधित्व करता है। इसके सदस्यों में एयर इंडिया, जेट एयरवेज तथा विस्तार शामिल हैं। आईएटीए के महानिदेशक तथा मुख्य कार्यपालक अधिकारी एलेक्जेंडर डी जुनिआक ने कहा, अंतरराष्ट्रीय टिकट पर जीएसटी लगाना गलत है। यह अंतरराष्ट्रीय समझौतों के विपरीत है जिसमें भारत भी पक्षकार है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here