राष्ट्रपति ट्रंप-पुतिन मुलाकात आज, पश्चिमी देशों को रूस का बड़ा संदेश

0
49

कई महीनों की कूटनीतिक वार्ता के बाद सोमवार को पहली बार राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप और उनके रूसी समकक्षीय ब्लादिमीर पुतिन बैठक करने जा रहे हैं। इसे भूराजनीतिक तौर पर रूस के लिए बड़ी जीत मानी जा रही है। फिनलैंड की राजधानी में होने जा रही इस बैठक से दोनों ही पक्षों को कोई बड़ी उम्मीद तो नहीं है। लेकिन, अमेरिका और रूस के बीच खराब रिश्तों को सुधारने की दिशा में समझौतों की शुरूआत हो सकती है। इसके साथ ही, परमाणु हथियारों पर नियंत्रण और सीरिया जैसे मुद्दों पर बातचीत हो सकती है। दो ऐसे नेता जिन्होंने लगातार एक दूसरे के नेतृत्व की तारीफ की है, वह दोनों ब्रिटेन में रूस के पूर्व जासूस को जहर देकर मारने के बाद खराब हुए रिश्ते और राजनयिकों की वापसी के बाद प्रतिक्रिया स्वरूप उठाए गए कदमों पर एक बार फिर से बातचीत शुरू कर सकते हैं। वार्ता से ठीक पहले, दोनों पक्षों ने इस पर अपनी ओर राय रखी है। हालांकि, ट्रंप ने सीबीएस से कहा है कि इससे वह ज्यादा उम्मीद नहीं करते हैं। रूस के विदेश मंत्री सर्गेई लावरोव ने वहां के टेलीविजन चैनल से बात करते हुए कहा कि उन्हें भी इससे काफी कम उम्मीद है। उन्होंने कहा कि वे तब इसे सफल मानेंगे जब जब दोनों तरफ से बातचीत खोलने को लेकर समझौते किए जाएंगे। पुतिन के लिए यह बैठक भूराजनैतिक तौर पर एक जीत माना जा रही है। क्योंकि, रूस की नजर में यह दिखाता है कि वाशिंटन मॉस्को को एक बड़ी शक्ति के तौर पर मानता है, जिसकी हितों को नजरअंदाज नहीं किया जा सकता है। रूस के लिए यह एक बड़ा संकेत है क्योंकि पश्चिमी देशों की तरफ से मॉस्को को अलग-थलग करने की रणनीति पूरी तरह से फेल हो गई है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here