INDvENG: इन पांच बडी़ वजहों से भारत ने इंग्लैंड के खिलाफ गंवाया तीसरा वनडे मैच

0
109

लीड्स में खेले गए आखिरी और सीरीज के निर्णायक वनडे मैच में भारत को इंग्लैंड के हाथों आठ विकेट से करारी हार झेलनी पडी़। साथ ही इंग्लैंड ने 2-1 से सीरीज अपने नाम कर ली। वहीं, टीम इंडिया का इंग्लैंड में वनडे सीरीज जीतना का सपना टूट गया।
1.पहाड़ की तरह खड़े रहे रूट और मॉर्गन
निश्चित रूप से जो रूट और इंग्लैंड के कप्तान इयोन मॉर्गन इस मैच के हीरो हैं। दोनों पहाड़ की तरह भारतीय गेंदबाजों के सामने खडे़ रहे और बिना एक भी खराब शॉट खेले टीम को धीरे-धीरे जीत तक ले गए। रूट ने नाबाद शतक मारा, वहीं मॉर्गन ने 88 रनों की नाबाद पारी खेली। 10वें ओवर में दूसरा विकेट गिरने के बाद दोनों आखिर तक क्रीज पर डटे रहे और 186 रनों की यादगार साझेदारी निभाई। फास्ट और स्पिन दोनों तरह के गेंदबाजों को इस जोड़ी ने आसानी से खेल डाला।
2. स्पिन गेंदबाजों ने मायूस किया
भारत के लिए हार के सबसे बड़े कारणों में से एक रहा शानदार फॉर्म में चल रही चहल और कुलदीप की जोड़ी का पूरी तरह फ्लॉप हो जाना। जहां टीम को इस पिच से स्पिन की उम्मीद थी, वहीं कुलदीप और चहल ने इंग्लैंड के बल्लेबाजों को जरा भी परेशान नहीं किया। जो रूट और इयोन मॉर्गन आसानी से दोनों स्पिनरों को खेल गए। दोनों में से किसी स्पिनर ने एक भी विकेट टीम को नहीं दिलाया।
मैच के बाद ऐसे फूटा विराट का गुस्सा, बोले- हम कभी मैच में थे ही नहीं
मैच के बाद विराट ने किया खुलासा- क्यों आउट होने पर रह गए थे हैरान
3. भारत को नहीं मिली शानदार शुरुआत
टॉस हारकर पहले बल्लेबाजी करने उतरी भारतीय टीम इस बार दमदार ओपनिंग नहीं कर सकी। रोहित शर्मा महज 2 रन(19गेंद) पर आउट हो गए। वहीं शिखर धवन ने अच्छी कोशिश की लेकिन 44 रन पर रनआउट होकर वो भी बड़ा स्कोर बनाने से चूक गए। इंग्लैंड के सामने बड़ा स्कोर खड़ा करने के लिए ओपनिंग जोड़ी का चलना सबसे जरूरी था।
4. आदिल राशिद का एक ओवर पड़ा भारी
जब भारतीय पारी कप्तान विराट कोहली की फिफ्टी के बाद कुछ लय में आती दिख रही थी, तब आदिल राशिद ने उस पर विराम लगा दिया। मैच में 30वां ओवर फेंकने आए राशिद ने पहली गेंद पर कोहली को कमाल की स्पिन से छकाकर बोल्ड किया। फिर उसी ओवर की आखिरी बॉल पर सुरेश रैना, स्लिप में लगे रूट को कैच थमा बैठे। इस तरह एक ही ओवर में भारत के दो बड़े खिलाड़ी पवेलियन लौट गए। इससे पहले राशिद कार्तिक को भी बोल्ड कर चुके थे।
5. मिडिल ऑर्डर की बल्लेबाजी में दम नहीं
भारत को इंग्लैंड जैसी मजबूत बैटिंग टीम के सामने बडा़ स्कोर खडा़ करना था। लेकिन भारत की ओपनिंग जोड़ी नाकाम रही। इसके बाद कोहली ने धवन के साथ मिलकर मजबूती दी, लेकिन इन दोनों के जाने के बाद टीम का कोई बल्लेबाज जिम्मेदारी से नहीं खेला। दिनेश कार्तिक 21 रन पर खराब शॉट खेलकर आउट हुए, तो रैना ने बिना फील्डर देखे शॉट खेल दिया और चलते बने। धौनी ने हालांकि 42 रन बनाए लेकिन वो भी बड़ी पारी नहीं खेल सके। इससे साफ जाहिर होता है टीम के मध्यक्रम बल्लेबाजों ने अपना काम नहीं किया।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here