ओजिल के आरोपों पर जर्मनी के फुटबॉल संघ ने कहा- हम नस्लभेद से नहीं जुड़े हैं

0
44

जर्मनी के सबसे मशहूर फुटबॉलरों में से एक मेसुत ओजिल ने फुटबॉस संघ पर नस्लभेद के गंभीर आरोप लगाकर सनसनी मचा दी। सोशल मीडिया पर तीन अलग-अलग हिस्सों में पोस्ट लिखकर ओजिल ने फुटबॉल संघ पर आरोप लगाए। अब जर्मन फुटबाल संघ (DFB) ने नस्लभेद के इन आरोपों को खारिज किया है। लेकिन संघ ने यह भी माना कि वह, खिलाड़ी को दुर्व्यवहार से बचाने के लिए जल्द कदम उठा सकता था। बीबीसी की रिपोर्ट के अनुसार, इंग्लिश क्लब आसेर्नल से खेलने वाले 29 वर्षीय मिडफील्डर ओजिल ने रविवार को ‘अपने खिलाफ हुए नस्लीय व्यवहार’ के कारण अंतरराष्ट्रीय फुटबॉल से संन्यास ले लिया। ओजिल तुर्की मूल के जर्मन खिलाड़ी हैं। उन्होंने DFB पदाधिकारियों, मीडिया के एक हिस्से को टार्गेट करते हुए कहा है कि जब हम जीतते हैं तो मैं जर्मन हो जाता हूं और जब हम हारते हैं तो मुझे आव्रजक (बाहरी) करार दे दिया जाता है। आपको बता दें कि ओजिल 2014 की विश्व विजेता जर्मन टीम के खास सदस्यों में से एक हैं। गौरतलब है कि पूरा विवाद उनके तुर्की के राष्ट्रपति रीसेप तैयप एदोर्गन के साथ फोटो खिंचवाने के बाद शुरू हुआ। इस बार जर्मनी के 2018 फीफा विश्व कप के ग्रुप स्तर से बाहर होने बाद उन्हें धमकियां दी गईं और उन पर नस्लभेदी टिप्पणियां की गईं। डीएफबी ने एक बयान में आज कहा, ‘हमें ओजिल के राष्ट्रीय टीम से जाने का दुख है। हम किसी भी प्रकार से नस्लभेद से नहीं जुड़े हैं, डीएफबी कई वर्षों से जर्मनी में एकीकरण का कार्य कर रहा है।’ आपको बता दें कि जर्मनी की टीम विश्व कप के अपने अंतिम ग्रुप मैच में दक्षिण कोरिया से 0-2 से हारकर टूर्नामेंट से बाहर हुई थी।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here