विशाखापट्टनम से चली मालगाड़ी का डिब्बा हुआ गायब, 4 साल बाद पहुंचा बस्ती

0
105

उत्तर प्रदेश बस्ती रेलवे स्टेशन पर जब मालगाड़ी का खाद लदा एक डिब्बा पहुंचा तो उसके कागजात देख मालगोदाम के अधिकारी हैरान रह गए। पता चला कि इस खाद भरे डिब्बे को विशाखापट्टनम से बस्ती की 1,326 किलोमीटर दूरी तय करने में लगभग चार साल लग गये। इस डिब्बे में 1,316 डाई अमोनियम फास्फेट (डीएपी) खाद के बोरे थे जो 10 नवंबर 2014 को विशाखापट्टनम से बुक किए गए थे। यह डिब्बा शुक्रवार दोपहर बस्ती पहुंचा। इस बारे में उत्तर पूर्वी रेलवे के संजय यादव ने गोरखपुर से बताया कि यह खाद भरी मालगाड़ी 2014 में विशाखपट्टनम से बस्ती के लिये भेजी गयी थी। लेकिन इसका एक डिब्बा वहां से रवाना होते ही खराब हो गया और यार्ड में ही खड़ा रहा। संजय यादव ने कहा कि यह कैसे हुआ, इसके जांच के आदेश दे दिए गए हैं। डिब्बा में लदी खाद यूपी के एक कारोबारी मनोज गुप्ता की थी। मनोज गुप्ता ने 10 लाख रुपये की खाद वापस मिलने की सारी उम्मीदें खो दी थी। गुप्ता ने कहा, ‘मैंने खाद के 21 डिब्बे बुक किए थे, केवल 20 मुझ तक पहुंचे। एक खो गया। मैंने रेलवे से मुआवजे की भी मांग की।’गुप्ता ने कहा ‘अपने लापता हुए माल को वापस पाने के लिए मैंने दर-दर की ठोकरे खाईं। उसके बाद मैंने उम्मीद छोड़ दी और वापस अपने बिजनेस में ध्यान केंद्रित कर लिया।’

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here