इस्तीफा देने के बाद मंजू वर्मा ने राजद नेता तेजस्वी यादव पर लगाये ये आरोप

0
137

पटना : बिहार के मुजफ्फरपुर जिला स्थित एक बालिका गृह में 34 लड़कियों के यौन शोषण मामले के मुख्य आरोपी ब्रजेश ठाकुर द्वारा समाज कल्याण मंत्री मंजू वर्मा के पति चंद्रेश्वर वर्मा से फोन पर ‘राजनीतिक मुद्दों’ पर बातचीत होने की बात स्वीकार करने के कुछ ही घंटे के बाद मंजू वर्मा ने मुख्यमंत्री नीतीश कुमार को अपना इस्तीफा सौंप दिया. इसके बाद मंजू वर्मा ने कई सवाल उठाये. उन्होंने नेता प्रतिपक्ष तेजस्वी यादव पर आरोप लगाया कि किसी रसूखदार को बचाने के लिए उन्होंने उनके पति को निशाना बनाया.

मंजू वर्मा ने इस्तीफा सौंपने के कुछ देर बाद स्पष्ट किया कि उन्होंने मंत्री पद से इस्तीफा मुख्यमंत्री के कहने पर नहीं, इसको लेकर बिहार विधानसभा में प्रतिपक्ष के नेता तेजस्वी प्रसाद यादव तथा मीडिया द्वारा ‘हायतौबा’ मचाने पर दिया है.

मुख्यमंत्री कार्यालय के सूत्रों ने बताया कि मंजू वर्मा ने नीतीश कुमार से मुलाकात की और अपना इस्तीफा उन्हें सौंप दिया. मुजफ्फरपुर जिले की एक स्थानीय अदालत में पेशी के दौरान बुधवार को आरोपी ब्रजेश ठाकुर से जब संवाददाताओं ने गत जनवरी से जून महीने की उसकी काॅल डिटेल्स रिपोर्ट (सीडीआर) में समाज कल्याण मंत्री मंजू वर्मा के पति चंद्रेश्वर वर्मा से 17 बार फोन पर बातचीत के बारे में पूछा, तो ब्रजेश ने उनसे किसी कार्य के बारे में बात होने से इन्कार करते हुए स्वीकार किया कि उनसे राजनीतिक मुद्दों बात हुई है.

विपक्षी दलों ने मांग की थी कि मंजू वर्मा इस मामले में नैतिकता के आधार पर इस्तीफा दें और उनके पति को गिरफ्तार करके उनसे इस मामले में पूछताछ की जाये. मंजू वर्मा ने गत 26 जुलाई को अपने पति की इसमें संलिप्तता से इन्कार किया था और उन पर लगाये जा रहे आरोप को आधारहीन बताते हुए कहा था कि आरोप सिद्ध होने पर वे मंत्री पद से इस्तीफा दे देंगी.

मंजू वर्मा ने कहा था कि वह अपने पति पर आरोप सिद्ध होने पर मंत्री और विधायक पद से इस्तीफा देने के साथ-साथ राजनीतिक और सामाजिक जीवन से संन्यास ले लेंगी. उन्होंने आरोप लगाया था कि वे पिछड़ी और कमजोर जाति से हैं, इसलिए उनके पति को मोहरा बनाया जा रहा है.

इस मामले में जेल में बंद बालिका गृह के सीपीओ रवि कुमार रोशन की पत्नी द्वारा गत 25 जुलाई को समाज कल्याण मंत्री मंजू वर्मा के पति चंद्रेश्वर वर्मा पर उक्त बालिका गृह में अक्सर जाने का आरोप लगाया गया था. उसके बाद विपक्षी दलों ने मुख्यमंत्री नीतीश कुमार से मंजू वर्मा को मंत्री पद से बर्खास्त करने और उनके पति को गिरफ्तार कर उनसे पूछताछ किये जाने की मांग की थी.

रवि की पत्नी ने मंजू वर्मा के पति पर बालिका गृह में अपने साथ जाने वाले अधिकारियों को बाहर छोड़कर उसके भीतर जाने का आरोप लगाते हुए बताया था कि वहां की लड़कियां उन्हें नेताजी के तौर जानती थीं.

मंजू वर्मा ने अपने पति के अपने साथ फरवरी, 2016 में उक्त बालिका गृह जाने की बात स्वीकार करते हुए कहा था कि इस मामले के उजागर हुए करीब एक महीना बीत चुका है लेकिन जिला प्रशासन और पुलिस की जांच के क्रम में इस तरह का आरोप किसी पर नहीं लगा.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here