ब्रजेश के एनजीओ के सभी सदस्यों की संपत्ति सरकार कब्जे में लेगी, फोन पर ब्रजेश से ज्यादा बातचीत करनेवाले रडार पर

0
154

मुजफ्फरपुर : बालिका गृह का संचालन करने वाली संस्था सेवा संकल्प एवं विकास समिति और इस एनजीओ के पदधारकों की संपत्ति सरकार अपने कब्जे में लेगी. इस संबंध में प्रक्रिया शुरू कर दी गयी है. मद्य निषेध उत्पाद एवं निबंधन विभाग के आदेश पर जिलाधिकारी मो सोहैल ने जिले के सभी 16 अंचलाधिकारियों को पत्र लिखकर संस्था के साथ इसके पदाधिकारियों व सदस्यों की चल-अचल संपत्ति का ब्योरा जुटाने और उसे अपने अधीन लेने को कहा है. संस्था के सात पदाधिकारियों व सदस्यों में ब्रजेश ठाकुर की पत्नी, साला, चचेरा भाई और कुछ दूर के रिश्तेदार हैं. मद्य निषेध उत्पाद एवं निबंधन विभाग ने तीन अगस्त को (ज्ञापांक-1151) के जरिये जिलाधिकारी को पत्र लिखा था. इसके आलोक में जिलाधिकारी ने सभी अंचलाधिकारियों को पत्र लिखा है. इसमें विभाग के पत्र का हवाला देते हुए कहा गया है- ‘तदनुसार सेवा संकल्प एवं विकास समिति, साहु रोड, मुजफ्फरपुर एवं उनके पदधारकों की चल एवं अचल संपत्ति के संबंध में जानकारी प्राप्त कर उसे अपने अधीन ले लिया जाये.’ डीएम ने पत्र में साफ तौर पर हिदायत दी है कि लापरवाही बरतने पर अधिकारी पर सख्त कार्रवाई होगी. गौरतलब है कि सेवा संकल्प एवं विकास समिति के सदस्यों में ब्रजेश ठाकुर की पत्नी प्रो डॉ आशा, रिश्तेदार संजय कुमार सिंह तथा चचेरे भाई रमेश कुमार भी हैं. इसके अलावा समेत चार अन्य रिश्तेदार व दोस्त हैं. ब्रजेश के साला रोहुआ मुशहरी निवासी संजय कुमार सिंह सेवा संकल्प एवं विकास समिति संस्था के अध्यक्ष हैं. चचेरे भाई सिलौत पचदही के रहने वाले रमेश कुमार को सचिव बना रखा था. पत्नी प्रो (डॉ) आशा बतौर सदस्य नामित हैं. कोषाध्यक्ष कांटी असनगर के रहनेवाले प्रयागनाथ तिवारी उर्फ मुन्ना, बतौर कार्यकारिणी के सदस्य रघुवंश रोड निवासी किरण पोद्दार, गन्नीपुर निवासी संगीता सुभाषिणी व साहू रोड निवासी संजीता कुमारी नामित थी.
डीएम से मिली सीबीआई की टीम
शुक्रवार को सीबीआई की टीम ने डीएम मो सोहैल से भी मुलाकात की. उनसे काफी देर तक बातचीत कर मामले से संबंधित जानकारी ली. हालांकि, डीएम का कहना हैं कि सीबीआई कैंप कार्यालय के लिए उनसे बात करने आयी थी. गृह विभाग की तरफ से सीबीआई को कैंप कार्यालय उपलब्ध कराने का निर्देश मिला है. जल्द ही कैंप कार्यालय उपलब्ध करा दिये जायेंगे.
दस्तावेज तैयार करने वाले कातिबों पर दर्ज होगी प्राथमिकी
चल-अचल संपत्ति की खरीद-बिक्री पर नजर : मुजफ्फरपुर. बालिका गृह कांड के मुख्य आरोपी ब्रजेश ठाकुर व सेवा संकल्प संस्था से जुड़े लोगों की चल-अचल संपत्ति की खरीद-बिक्री पर नजर रखी जा रही है. जिला निबंधन विभाग के कातिब भी जांच एजेंसी के रडार पर हैं. विशेष शाखा की रिपोर्ट के बाद मद्य निषेध व निबंधन विभाग ने पत्र जारी कर डीएम व जिला अवर निबंधक को अलर्ट किया है. दस्तावेज तैयार करने वाले कातिबों की गतिविधियों पर विशेष नजर रखते हुए कहा गया है कि यदि भविष्य में सेवा संकल्प संस्था के साथ ब्रजेश के रिश्तेदारों की संपत्ति की खरीद-बिक्री के लिए अगर चोरी-छिपे दस्तावेज तैयार करते हैं, तब वैसे कातिब को चिह्नित कर रजिस्ट्रेशन कैंसिल करते हुए सीधे प्राथमिकी दर्ज होगी.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here