सावन का आज आखिरी सोमवार, उज्जैन के महाकाल में भस्म आरती में उमड़े श्रद्धालु

0
75

आज सावन का चौथा और अंतिम सोमवार है. इस कारण प्रत्येक शिव मंदिर में भक्तों की भारी भीड़ है. भगवान शिव की कृपा पाने के लिए यह सोमवार सबसे शुभ फलदायी है. ज्येष्ठा नक्षत्र में भगवान शिव की पूजा करने से हर श्रद्धालू को इसका लाभ जरूर मिलता है. धन और संतान की इच्छा रखने वाले लोग इस दिन भगवान शिव का अभिषेक करना न भूलें. आखिरी सोमवार होने के कारण उज्जैन के महाकाल मंदिर में भी भक्तो की भारी भीड़ दिखाई दी. अल सुबह भस्म आरती के लिए दूर-दूर से श्रद्धालु उज्जैन पंहुचे थे. सुबह 2 बजे से मंदिर में महाकाल की पूजा शुरू हुई जिसमें दूध, दही, घी, शहद, फूल, इत्र आदि से भगवान को स्नान कराने के बाद भस्म आरती की गई. मान्यता है कि सावन में सोमवार को शिव के दर्शन से जो मांगो वो फल मिलता है.

उज्जैन: महाकाल की भस्म आरती के लिए खड़े दो श्रद्धालुओं पर चाकू से हमला

चांदी की पालकी में सवार होकर नगर भ्रमण पर निकलेंगे महाकाल
भस्म आरती के दौरान महाकाल का भव्य श्रंगार भी किया गया. आज शाम 4 बजे महाकाल की सवारी भी अपने भक्तो को दर्शन देने के लिए चांदी की पालकी में सवार होकर उमा महेश के रुप में शहर भ्रमण पर निकलेगी. आज मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान भी आज उज्जैन आएगे और महाकाल बाबा का पूजन कर सवारी में शामिल होंगे. मान्यता है की सावन सोमवार को व्रत रखने वाले श्रद्धालु आज के दिन महाकाल मंदिर में पूजन अभिषेक करते हैं, तो भगवान महाकाल भक्तों की मनोकाना पूरी करते हैं. जो श्रद्धालु सावन के पिछले तीन सोमवार दर्शन के लिए महाकाल मंदिर नहीं पंहुच पाए थे आज वे भगवान के दर्शन कर अपने आप को धन्य मान कर अपनी मनोकामना पूरी करते है.शाम चार बजे निकलेगी महाकाल की

आज सावन का अंतिम सोमवार और भीड़ के कारण मंदिर समिति ने महाकाल मंदिर के गर्भगृह में प्रवेश बंद रखा है. जो भक्त सावन के दौरान महाकाल मंदिर आकर बाबा के दर्शन नहीं कर पाते इस लिए महाकाल राजा स्वयं चांदी की पालकी में सवार होकर उमा महेश के रूप में नगर भ्रमण पर निकलते हैं और अपने भक्तो दर्शन देकर आशीर्वाद देते हैं. आज प्रदेश के मुखिया शिवराज सिंह चौहान सहित कांग्रेस के नेता ज्योतिरादित्य सिंधिया भी महाकाल की शाही सवारी में शामिल होंगे.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here