बकरीद पर सीएम योगी आदित्यनाथ का आदेश- खुले में ना दे कोई बलि, नाली में खून ना दिखे

0
122

उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने बकरीद त्योहार के मद्देनजर शनिवार रात को प्रदेश भर के अधिकारियों को विडियो कॉन्फ्रेंसिंग के जरिए संबोधित किया। सीएम योगी ने पुलिस और प्रशासनिक अधिकारियों को सख्त निर्देश दिए हैं कि कहीं पर भी जानवर खुले में न काटे जाएं और ना ही कहीं मांस के टुकड़ों या खून को नालियों में बहाया जाए। इस निर्देश के पीछे सांप्रदायकि सौहार्द को बनाए रखने का मकसद बताया गया है.सूत्रों के मुताबिक, सीएम ने अधिकारियों को निर्देश दिए हैं कि जिलों में बिजली और पानी की सप्लाई दुरुस्त रहे और कानून व्यवस्था को भी दुरुस्त रखा जाए। इसके साथ ही यह भी निर्देश दिए गए हैं कि जानवरों को खुले में न काटा जाए।

शांति बनाए रखने को काम पर प्रशासन
मुजफ्फरनगर के जिलाधिकारी राजीव शर्मा ने कहा, ‘हम पूरी कोशिश करेंगे कि मुख्यमंत्री के आदेश को लागू किया जाए। हमने जिले के विभिन्न अधिकारियों के साथ मीटिंग की है। सोमवार को अधिकारियों के साथ-साथ दोनों समुदायों के वरिष्ठ लोगों के साथ मीटिंग की जाएगी।’

सीएम योगी ने यह भी निर्देश दिए हैं कि जिन जिलों में कांवड़ यात्रा निकल रही है, वहां विशेष ध्यान दिया जाए। एक पुलिस अधिकारी ने बताया, ‘सीएम का आदेश है कि राज्य भर में बकरीद पारंपरिक रूप से ही मनाई जाएगी लेकिन कहीं भी खुले में जानवरों की बलि चढ़ाने की अनुमति नहीं होगी।’ बता दें कि देशभर में 22 अगस्त को बकरीद का त्योहार मनाया जाएगा।

‘बकरीद पर निर्धारित स्थलों पर ही होगी पशु कुर्बानी’
इधर, गौतम बुद्ध नगर जिला प्रशासन ने कहा है कि बकरीद पर पशुओं की कुर्बानी केवल निर्धारित स्थलों पर ही दी जाए। डीएम ब्रजेश नारायण सिंह ने वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक अजय पाल शर्मा के साथ सुरक्षा इंतजामों पर समीक्षा बैठक के बाद अधिकारियों से कहा, ‘मुस्लिम बहुल इलाकों में विशेष ध्यान दिया जाए। पहले से क्षेत्रों का दौरा किया जाए ताकि नमाज स्थलों पर बिना रूकावट बिजली आपूर्ति सुनिश्चित हो।’

उन्होंने कहा कि पशुओं की कुर्बानी केवल निर्धारित स्थलों पर दी जाए और अगर कोई सार्वजनिक स्थलों पर यह करता हूआ पाया जाए तो उसके खिलाफ कड़ी कार्रवाई की जाए। अधिकारियों से यह सुनिश्चित करने को कहा गया है कि कुर्बानी वाले पशुओं के कंकाल तालाबों, नदियों, नालों या खुले इलाके में नहीं फेंके जाएं।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here