केरल की बाढ़ पर ना लें विदेशी मदद, भारत ने दूतावासों से कहा

0
90

बाढ़ का कहर झेल रहे केरल को दुनिया भर से कई देश मदद की पेशकश कर रहे हैं, लेकिन भारत सरकार ने अपने सभी दूतावास से कहा है कि केरल के लिए विदेशी सरकारों से आ रही मदद ना लें.

सूत्रों के मुताबिक, सरकार ने दूतावासों को एक मेल जारी कर कहा कि भारत में 2004 से यह नीति है कि घरेलू आपदाओं में सरकार स्व-संसाधनों से निपटती है और विदेश से तब तक किसी प्रकार की सहायता नहीं लेती, जब तक उसे जरूरत ना हो.

यह कदम सरकार ने ऐसे वक्त लिया है जब मंगलवार को संयुक्त अरब अमीरात (UAE) ने केरल बाढ़ राहत अभियान के लिए करीब 700 करोड़ रुपये की वित्तीय सहायता देने की पेशकश की थी. सरकार का कहना है कि यदि कोई देश मदद के लिए पेशकश करता है तो उसका शुक्रिया अदा करें और जब तक भारत सरकार को जरूरत ना हो तब तक मदद ना लें.

मालूम हो कि केरल के मुख्यमंत्री पिनरायी विजयन ने तिरुवनंतपुरम में कहा था कि यूएई के प्रधानमंत्री और शासक शेख मोहम्मद बिन राशिद अल मख्तूम ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को फोन किया और सहायता की पेशकश दी है.

उन्होंने कहा था कि, “संयुक्त अरब अमीरात ने राज्य के पुननिर्माण के लिए 700 करोड़ रुपये की मदद की पेशकश की है. यूएई ने ऐसे वक्त में मदद का हाथ बढ़ाने के लिए हम उनका शुक्रिया करते हैं.”

वहीं, प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने भी ट्वीट कर यूएई का शुक्रिया अदा किया. उन्होंने कहा कि, “शेख मोहम्मद बिन राशिद मख्तूम की ओर से केरल के बुरे वक्त में की गई मदद की पेशकश के लिए शुक्रिया. यह वक्त भारत और यूएई के बीच अच्छे संबंधों को दर्शाता है.”

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here