मुश्किलों में ट्रम्प: पूर्व वकील 8 मामलों में दोषी करार, ट्रम्प के कहने पर ही 2 महिलाओं को दिए थे 2.80 लाख डॉलर

0
60

डोनाल्ड ट्रम्प के पूर्व वकील माइकल डी. कोहेन को गैरकानूनी भुगतान करने, ट्रैक्स से जुड़ी धोखाधड़ी, बैंक फ्रॉड और चुनाव में वित्तीय गड़बड़ी समेत आठ मामलों में दोषी करार दिया गया। सुनवाई के दौरान कोहेन ने अदालत में कहा कि उन्होंने राष्ट्रपति ट्रम्प के कहने पर ही 2016 के चुनाव के दौरान पोर्न फिल्म स्टार और प्लेब्वॉय मैगजीन की पूर्व मॉडल को शांत रहने के लिए रुपए दिए थे। इसका मुख्य मकसद चुनाव को प्रभावित करना था। मैनहट्‌टन स्थित यूनाइटेड स्टेट्स डिस्ट्रिक्ट कोर्ट में कोहेन ने ट्रम्प पर भी इस मामले में शामिल होने का आरोप लगाया।
उधर, वर्जीनिया की अदालत में ट्रम्प के पूर्व कैंपेनिंग चेयरमैन पॉल मैनफोर्ट को वर्जीनिया फेडरल कोर्ट ने मंगलवार को वित्तीय मामलों में दोषी पाया। उन्हें 80 साल की सजा हो सकती है। मैनफोर्ट के खिलाफ स्पेशल काउंसल रॉबर्ट एस मुलर थर्ड ने शिकायत दर्ज कराई थी। मैनफोर्ट पर लोन लेने के लिए अपने पद का गलत इस्तेमाल करने का भी आरोप है।

इन मामलों में फंसे हैं कोहेन : माइकल कोहेन पर आरोप था कि 2016 में राष्ट्रपति चुनाव के दौरान टैक्स से जुड़ी गड़बड़ियां कीं। साथ ही, दो महिलाओं को गैरकानूनी तरीके से भुगतान भी किया। सुनवाई के दौरान कोहेन ने फेडरल जज विलियम पाउले को बताया कि उन्होंने दो महिलाओं को 1.30 लाख और 1.50 लाख डॉलर दिए। उन महिलाओं का दावा था कि उनके ट्रम्प के साथ संबंध थे। कोहेन ने कहा कि चुनाव पर असर न होने देने के लिए उन्होंने अपने बॉस (ट्रम्प) के कहने पर यह सौदेबाजी की। सुनवाई के दौरान कोहेन महिलाओं के नाम नहीं बता पाए। इन मामलों में जांच के दौरान एफबीआई ने कोहेन के घर और दफ्तरों में छापेमारी की थी। उस वक्त कुछ रिकॉर्डिंग मिली थीं, जिसमें कोहेन एक मॉडल को पैसे देने के लिए ट्रम्प को उकसा रहे थे। इसके अलावा कोहेन को 20 मिलियन डॉलर के बैंक फ्रॉड में भी संलिप्त पाया गया।

मैनफोर्ट ने ये गड़बड़ी कीं : अभियोजन पक्ष के वकील ने कहा कि 2010 से 2014 के दौरान मैनफोर्ट ने विदेशी बैंकों में 65 मिलियन डॉलर जमा किए थे। वहीं, 15 मिलियन डॉलर लग्जरी सामान खरीदने में खर्च किए गए। वकील के मुताबिक, मैनफोर्ट ने बैंकों से झूठ बोला था कि 2015 में यूक्रेन में राजनीतिक कार्यों के लिए 20 मिलियन डॉलर विदेश भेजे थे। इसके अलावा, आरोपी ने फेडरल अथॉरिटी को विदेशी खातों के बारे में जानकारी नहीं दी। साथ ही, ट्रम्प के चुनावी अभियान के दौरान अपने पद का फायदा उठाते हुए फेडरल सेविंग बैंक से लोन भी लिया।

मध्यावधि चुनावों पर पड़ेगा असर : दो पुराने करीबियों के धोखाधड़ी में फंसने और दो महिलाओं को गैरकानूनी तरीके से रुपए देने के मामले में नाम सामने आने से ट्रम्प को बैकफुट पर माना जा रहा है। फिलहाल उन्होंने दोनों मामलों में टिप्पणी करने से साफ इनकार कर दिया। विश्लेषकों का मानना है कि कोहेन के आरोप से ट्रम्प का दोष साबित नहीं हो सकता है। हालांकि, डेमोक्रेट्स इसमें मौके तलाश सकते हैं और नवंबर में होने वाले मध्यावधि चुनाव में जीत दर्ज करके लोकसभा में पहुंच सकते हैं।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here