आसरा होम : पुलिस के सवालों से मनीषा व चिरंतन के छूटे पसीने सूखने लगे हलक, मांगते रहे बार-बार पानी

0
213

आसरा होम : रिमांड में खाते में हुए ट्रांजेक्शन के संबंध में हो रही पूछताछ
पटना : आसरा शेल्टर होम के सचिव चिरंतन व मनीषा दयाल को पटना पुलिस ने दो दिनों के रिमांड पर ले लिया है और पूछताछ कर रही है. राजीव नगर थानाध्यक्ष रोहन कुमार बुधवार को बेऊर जेल गये और दोनों को सुरक्षा में अपने साथ ले आये. दोनों से अलग-अलग पूछताछ की जा रही है. मनीषा दयाल को महिला थाने में रखा गया है और चिरंतन को गुप्त स्थान पर पुलिस के लिए लाया गया है.

जहां दोनों से लगभग एक ही सवाल किये जा रहे है. इसके बाद गुरुवार को दोनों को आमने-सामने रख कर पूछताछ की जायेगी. इससे यह स्पष्ट हो जायेगा कि मनीषा दयाल और चिरंतन का बयान आपस में मिलता है या नहीं?

इसके बाद साक्ष्य जुटाने में आसानी होगी. पुलिस चिरंतन व मनीषा दयाल से पूर्व में हुए संवासिनों की बीमारी से मौत, उनके खाता से हुए ट्रांजेक्शन व शेल्टर होम्स में संवासिनों के रहने-सहने व खाने-पीने की व्यवस्था को लेकर सवाल पूछ रही थी. जिससे यह स्पष्ट हो सके कि दोनों संवासिनों की मौत के क्या कारण थे. पुलिस यह जानना चाहती है कि दोनों संवासिनों के इलाज में लापरवाही तो नहीं बरती गयी?

पुलिस ने मनीषा दयाल व चिरंतन से उनके बैंक खाता से हुए ट्रांजेक्शन के संबंध में ही मूल रूप से पूछताछ की. पुलिस ने उससे खाता के संबंध में ही ज्यादा सवाल पूछे. इसके साथ ही कुछ लोगों के फोटो दिखाये और कुछ लोगों के नाम बताये और पूछा कि वह इन लोगों को कैसे जानती है.

मनीषा दयाल को कुछ अधिकारी के भी फोटो दिखाये गये, जिनसे पूर्व में अच्छे संबंध थेपुलिस के सवाल से मनीषा दयाल के पसीने छूटने लगे और गला भी सूखने लगे. इसके बाद पुलिस टीम में शामिल पदाधिकारियों से वह बार-बार पानी मांग रही थी. इसके साथ ही पुलिस द्वारा किये गये सवाल का सही जवाब भी नहीं दे पा रही थी और उन्हें घुमाने की काेशिश में लगी थी.

मनीषा दयाल व चिरंतन से कौन-कौन से हुए सवाल

आपके पास कितने खाते हैं.
शेल्टर होम्स चलाने के लिए हर माह कितने रुपये सरकार से मिलते थे.
संवासिनों के स्वास्थ्य के लिए कितना खर्च हाेता था.
संवासिनों के खाने-पीने व रहने -सहने की क्या व्यवस्था थी.
खातों में जो पैसे आये, उन्हें दूसरे खाते में क्यों ट्रांसफर्र किया गया.
जिन दूसरे के खाते में पैसे भेजे गये, वे लोग कौन हैं.
संवासिनों की तबीयत कैसे खराब हुई और उनके इलाज के लिए क्या व्यवस्था की गयी.
किस डॉक्टर ने इलाज किया था और कौन-कौन सी दवाएं चली थीं.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.