जम्मू कश्मीर से अनुच्छेद 35ए हटाने की अफवाह के बाद घाटी में बवाल

0
25

कश्मीर में सोमवार को अनुच्छेद 35ए खत्म किए जाने की अफवाहों के बाद अधिकारियों ने श्रीनगर और घाटी के अन्य इलाकों को बंद कर दिया। जम्मू कश्मीर पुलिस ने श्रीनगर में जारी एक बयान में कहा- “कई जगह यह अफवाह फैल गई कि अनुच्छेद 35ए खत्म कर दिया गया है। जो पूरी तरह से गलत है। अभी इस बारे में कोर्ट ने कोई फैसला नहीं लिया है। लोगों से यह अपील की जाती है कि वह ऐसी अफवाहों पर ध्यान न दें और शांति बनाए रखें।” एहतियात के तौर पर दुकानें, सार्वनिजक परिवहन और अन्य प्रतिष्ठानों को बंद कर दिया गया। अनंतनाग और कुछ अन्य जगहों पर सुरक्षाबलों के साथ पत्थरबाजों की झड़प की खबरें भी सामने आई। राज्य विधानसभा को जम्मू कश्मीर के लोगों स्थाई निवासी बताने और उनके विशेषाधिकार को परिभाषित करनेवाले अनुच्छेद 35ए पर शुक्रवार को सुप्रीम में सुनवाई की तारीख सूचिबद्ध है। अधिकारी ने बताया, ”जम्मू कश्मीर की ग्रीष्मकालीन राजधानी श्रीनगर और दक्षिण कश्मीर में अनंतनाग जिले में कई स्थानों पर स्वत: स्फूर्त बंद देखा जा रहा है। न्होंने कहा कि अनुच्छेद 35ए को हटाने को लेकर लाउडस्पीकरों पर घोषणाएं की गयी और लोगों से बंद करने और विरोध में बाहर आने की अपील की गयी।अधिकारी ने बताया, ”अनुच्छेद 35ए को समाप्त करने संबंधी अफवाहों के जंगल की आग तरह फैलने और सोशल मीडिया पर इसके प्रसार के बाद आज सुबह खुली दुकानें और अन्य व्यवसायिक प्रतिष्ठान बंद कर दिये गये। उन्होंने बताया कि अफवाहों के बाद अनंतनाग और यहां सफाकादल इलाके में सुरक्षाबलों और पत्थरबाजों के बीच संघर्ष देखने को मिला। अधिकारी ने बताया कि सुरक्षा बल स्थिति को नियंत्रण करने के काम में लगे हुये हैं। एक बयान में पुलिस ने लोगों से शांति बनाए रखने और अफवाहों पर ध्यान नहीं देने की अपील की है। बयान में कहा गया है, ”मीडिया के कुछ वर्गों में अनुच्छेद 35ए के संबंध में खबरें प्रसारित हुई हैं। निराधार होने के कारण खबरों का खंडन किया जाता है। लोगों से शांति बनाए रखने और अफवाहों पर ध्यान नहीं देने की अपील की जाती है। मामले पर मुख्य सुनवाई 31 अगस्त को होनी है। वर्ष 1954 में राष्ट्रपति के एक आदेश से अनुच्छेद 35 ए संविधान में शामिल किया गया था।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here