RBI ने एक दशक में पहली बार गोल्ड खरीदा

0
40

रिजर्व बैंक ऑफ इंडिया ने पिछले एक दशक में पहली बार गोल्ड खरीदा है। उसका यह कदम उस स्थिति में वैल्यू स्टोर के तौर पर गोल्ड की काफी डिमांड होने का संकेत हो सकता है, जिसमें इंटरेस्ट रेट में बढ़ोतरी के चलते फिक्सड इनकम बॉन्ड्स से मिलने वाला रिटर्न और उसकी कैपिटल वैल्यू घट रही है। आरबीआई ने 30 जून को खत्म हुए फाइनैंशल इयर 2017-18 की पहली तिमाही के दौरान अपने गोल्ड स्टॉक होल्डिंग में 8.46 टन की बढ़ोतरी की है। उसकी हालिया एनुअल रिपोर्ट के मुताबिक इससे आरबीआई का गोल्ड रिजर्व बढ़कर 566.23 टन पर पहुंच गया है। आरबीआई ने अपने रिजर्व को स्ट्रॉन्ग बनाने के लिए इससे पहले नवंबर 2009 में आईएमएफ से 200 टन सोना खरीदा था। पिछले 9 साल के दौरान आरबीआई के रिजर्व का गोल्ड स्टॉक 1.79 करोड़ ट्रॉय औंस पर स्थिर रहा। आईएमएफ के पास जमा कराए गए डेटा के मुताबिक RBI ने दिसंबर 2017 के बाद से गोल्ड स्टॉक में फिर से ऐडिशन करना शुरू कर दिया। 30 जून को आरबीआई के पास 1.820 करोड़ ट्रॉय औंस या 566.23 टन के बराबर सोना था जो नवंबर 2017 में 1.79 करोड़ ट्रॉय औंस के लेवल पर था।

सोना बेचने का आरबीआई का फैसला बहुत बड़ा है क्योंकि पीपल्स बैंक ऑफ चाइना जैसे दूसरे देशों के सेंट्रल बैंकों से उलट आरबीआई गोल्ड ट्रेडिंग नहीं करता हालांकि आरबीआई ऐक्ट में इसकी इजाजत जरूर है। इकनॉमिस्ट्स का कहना है कि यील्ड में हो रही बढ़ोतरी के माहौल के बीच आरबीआई के लिए गोल्ड इनवेस्टमेंट उसकी तरफ से उठाया सही कदम है। अमेरिकी ट्रेजरी डिपार्टमेंट के डेटा के मुताबिक, RBI इस साल अप्रैल से जून के बीच 10 अरब डॉलर की अमेरिकी ट्रेजरी सिक्योरिटीज बेच चुका है।

ऐक्सिस बैंक के चीफ इंडिया इकनॉमिस्ट सौगत भट्टाचार्य ने कहा, ‘आरबीआई के फॉरेक्स रिजर्व में गोल्ड एड करने का मकसद 2017 के दौरान फॉरेक्स रिजर्व में हुई बढ़ोतरी और मार्केट वोलैटिलिटी में बढ़ोतरी और अमेरिका में पॉलिसी रेट में हो रही बढ़ोतरी सहित ग्लोबल रिस्क में हो रहे इजाफे के मद्देनजर एसेट डायवर्सिफिकेशन करना हो सकता है।’ बॉन्ड्स की यील्ड में बढ़ोतरी होने से आरबीआई को अपने बॉन्ड पोर्टफोलियो में मार्क टू मार्केट लॉस हो सकता है। आईएमएफ के डेटा के मुताबिक, 30 जून को आरबीआई के पास 405 अरब डॉलर का रिजर्व था जिसमें 245 अरब डॉलर बॉन्ड्स और सिक्यॉरिटीज के रूप में था।

मौजूदा हालात में आरबीआई के लिए अपने रिजर्व में गोल्ड को शामिल करके उसको डायवर्सिफाई करना सही कदम है। एनुअल रिपोर्ट से पता चलता है कि आरबीआई रिस्क मैनेजमेंट के लिए फॉरेन करेंसी एसेट्स में लगातार डायवर्सिफिकेशन करता आ रहा है। सौगत ने बताया कि आरबीआई ने अपने गोल्ड पोर्टफोलियो को ऐक्टिवेट कर दिया है। रिपोर्ट में आरबीआई ने यह नहीं बताया है कि उसने सोना कहां से और किस वजह से खरीदा है। इनकॉमिस्ट्स के मुताबिक मुमकिन है कि आरबीआई गोल्ड बॉन्ड स्कीम के रिडेम्पशन के लिए बफर बनाना चाहता हो, जिसके जरिए उसने 4000 करोड़ रुपये से ज्यादा के बॉन्ड्स बेचे थे।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here