बाबा मटेश्वर महोत्सव : 10 हजार से अधिक होंगे शामिल, चार सौ लोग उठायेंगे कांवर

0
23

‌भादो मास के दूसरे रविवार को यानी नौ सितंबर को बाबा मटेश्वरधाम में 22वां बाबा मटेश्वर महोत्सव होगा. इस अवसर पर ऐतिहासिक 162 फुट लंबे कांवर चढ़ाये जाने की तैयारी अंतिम चरण में है. कांवरयात्रा को ऐतिहासिक बनाने की तैयारी भी जोरों पर है. जय बाबा मटेश्वरधाम डाक एवं कांवरिया संघ के अनुसार यह 162 फुट लंबा कांवर विश्व का पहला और सबसे बड़ा ऐसा होगा, जिसे श्रद्धालुओं द्वारा कंधे पर उठाकर जलाभिषेक के लिए मुंगेर घाट से मटेश्वरधाम लाया जायेगा.

भादो मास के दूसरे रविवार को बाबा का जलाभिषेक करने के लिए इस कांवर यात्रा में 10 हजार से अधिक लोग शामिल होंगे. इस विशाल कांवर को एक बार में चार सौ अधिक लोग मिलकर एक बार में उठायेंगे. इतने बड़े कांवर को गिनीज बुक ऑफ वर्ल्ड रिकॉर्ड एवं लिम्का बुक ऑफ वर्ल्ड रिकॉर्ड में दर्ज कराने की भी तैयारी की जा रही है.

गुरुवार को जत्था पहुंचेगा मुंगेर : कांवर यात्रा में भाग लेनेवाले सभी श्रद्धालु गुरुवार की शाम तक मुंगेर घाट पहुंचेंगे, जहां छर्रापट्टी घाट पर दीप प्रज्वलन होगा एवं गंगा आरती होगी. गुरुवार की रात ही गंगा तट पर भव्य जागरण का भी आयोजन है.

अगले दिन शुक्रवार की सुबह कांवर पूजन के साथ यात्रा प्रारंभ होगी. शुक्रवार की रात मानसी रेलवे मैदान में विश्राम होगा. रात में कांवर आरती के बाद बाबा का जगराता होगा. शनिवार की सुबह यात्रा प्रारंभ होकर मां कात्यायनी स्थान पहुंचेगी. जहां दस बजे दिन में विशेष पूजा एवं सिमरी बख्तियारपुर में रात्रि विश्राम होगा. सिमरी बख्तियारपुर में जागरण का कार्यक्रम भी आयोजित है.

अगले दिन रविवार को यात्रा मटेश्वरधाम पहुंचेगी. जहां बाबा का जलाभिषेक होगा. रविवार की ही संध्या 2200 दीपों के साथ महाआरती होगी. साथ ही बाबा का विशेष व भव्य शृंगार पूजा की जायेगी. 22वें मटेश्वर महोत्सव के समापन पर प्रसिद्ध कलाकारों द्वारा बाबा की झांकी एवं जागरण संध्या का आयोजन होगा.
55 दिनों में बने कांवर पर खर्च आये पांच लाख रुपये

इस विशाल कावंर का निर्माण भागलपुर के सुल्तानगंज के कांवर विशेषज्ञ कृष्णा, राजा, शिव, महाराज, ऋतिक सहित आठ कारीगरों ने किया है. निर्माण कार्य पूर्ण करने में कुल 55 दिनों का समय लगा है.

इस 162 फुट लंबे कांवर के निर्माण पर अब तक कुल पांच लाख रुपये की राशि खर्च हुई है. विशाल कांवर निर्माण व कांवर यात्रा को सफल बनाने में जय बाबा मटेश्वरधाम डाक एवं कांवरिया संघ के अध्यक्ष मुन्ना भगत सहित शिवेंद्र पोद्दार, ललन गुप्ता, सिकंदर साह, हरेराम सिंह, प्रियनंदन गुप्ता, राजो राय, संतोष, धीरज, गोविंद, आला बाबा, बिजली सिंह, ओमप्रकाश गुप्ता, बमबम गुप्ता, जवाहर गुप्ता, सुनील फाइटर, नथुनी बाबा, टुनटुन सिंह, संजय चौरसिया, मुकेश यादव, मिथलेश यादव, अरुण यादव, चंदन, हरेराम सिंह, विनोद सिंह, संजय गुप्ता, सुभाष, चतुरी यादव, संतोष मंटू, राज रतन, अनिल यादव, रामअवतार यादव एवं जगदर यादव का सराहनीय योगदान है.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here