एससी-एसटी एक्ट के खिलाफ सवर्णों का प्रदर्शन, बिहार में रहा असरदार, हुई फायरिंग, हंगामा, आगजनी

0
27

सुप्रीम कोर्ट के आदेश के खिलाफ केंद्र सरकार द्वारा लाये गये अनुसूचित जाति और जनजाति (अत्याचार निरोधक) कानून में संशोधन को लेकर सवर्ण संगठनों द्वारा आहूत एक दिवसीय भारत बंद का असर, बिहार, मध्यप्रदेश, उत्तर प्रदेश, राजस्थान, उत्तराखंड सहित कई राज्यों में दिखा. मध्यप्रदेश सरकार ने बंद के मद्देनजर प्रदेश के अधिकतर जिलों में एहतियाती तौर पर धारा 144 लगा दी थी और समूचे प्रदेश में सुरक्षा के कड़े बंदोबस्त किये गये थे. वहीं, उत्तर प्रदेश के बलिया और नोएडा में बंद के दौरान पथराव की घटना सामने आयी है.

खास तौर पर बिहार में बंद का व्यापक असर दिखा. कई जगह फायरिंग, तोड़फोड़ व आगजनी की घटनाएं हुईं. प्रदर्शनकारियों व पुलिस की भिड़ंत में कई पुलिसकर्मी भी घायल हो गये. बेगूसराय में जदयू विधायक श्याम रजक, जहानाबाद में एएसपी आपरेशन, मुजफ्फरपुर में पप्पू यादव पर बंद समर्थकों ने हमला कर दिया. कई जगह आगजनी, रेल- सड़क यातायात जाम कर दिया गया.

बेगूसराय में इनियार ढाला के पास शाम चार बजे जदयू विधायक श्याम रजक जाम के दौरान वहां से गुजर रहे थे. 100 प्रदर्शनकारियों ने उनकी गाड़ी पर हमला कर दिया. इसमें विधायक घायल हो गये. गाड़ी क्षतिग्रस्त हो गयी. जहानाबाद के घोषी में दोपहर 12 बजे करीब 60 बंद समर्थकों ने पुलिस पर पथराव कर दिया. इसमें अपर पुलिस अधीक्षक अभियान घायल हो गये.

मुजफ्फरपुर में एलएस कॉलेज तथा विवि परिसर में तालाबंदी कर रोड जाम कर दिया. थाना काजी मोहम्मदपुर क्षेत्र में लेनिन चौक पर बाइक के शोरूम पर पथराव कर दिया. मुजफ्फरपुर सदर क्षेत्र में सुबह आठ बजे खबड़ा के निकट बंद समर्थकों ने सांसद पप्पू यादव के काफिले को आगे नहीं बढ़ने दिया. बंद समर्थकों की उनसे झड़प हो गयी. घायल सांसद को वहां से लौटना पड़ा. पटना में बंद के दौरान पुलिस ने आयकर गोलंबर के पास से 25 प्रदर्शनकारियों को गिरफ्तार किया गया जिनको निजी मुचलके पर छोड़ दिया गया. थाना दीदारगंज में जाम बाईपास खुलवाने गयी पुलिस पर पथराव हो गया.

इसमें एएसआई सिबतुललाह खान घायल हो गये. पुलिस ने 10 बाइक जब्त करते हुए एक व्यक्ति को गिरफ्तार कर लिया. गया में 1000 प्रदर्शनकारियों की भीड़ उपद्रव मचाते हुये बेलागंज बाजार को बंद कराया, वाहनों पर पथराव किया गया. स्कूल बस पर को भी नहीं छोड़ा. पत्थर लगने से एक छात्र घायल हो गया. पुलिस पर भी पथराव किया गया. नवादा में ग्राम जगदेव के पास बंद समर्थकों को खदेड़ने के लिए पुलिस ने लाठीचार्ज किया. पटना में राजेंद्र नगर टर्मिनल पर सवर्ण सेना ने रेलवे ट्रैक पर प्रदर्शन किया. गोपालगंज के बरौली में सड़क जाम कर दी. आरा में रेलवे स्टेशन पर ट्रेन रोकर प्रदर्शन किया गया.

वहीं, मध्यप्रदेश में भिंड, शिवपुरी एवं ग्वालियर सहित कुछ अन्य जिलों में स्थानीय प्रशासन ने एहतियाती तौर पर स्कूलों की छुट्टी करने की घोषणा कर दी थी. सभी पेट्रोल पंप मालिकों ने अपने प्रतिष्ठान बंद रखे थे. वहीं, उत्तर प्रदेश के बलिया और नोएडा में बंद के दौरान पथराव की घटना सामने आयी है. बलिया में बंद के दौरान पथराव में छह पुलिसकर्मी और तीन अन्य लोग घायल हो गये. आंदोलन समर्थकों की भाजपा के बलिया सदर के विधायक आनंद स्वरूप शुक्ला से भी झड़प हुई. समर्थकों ने विधायक से आंदोलन में शरीक होने का अनुरोध किया, लेकिन विधायक ने मना कर दिया. उधर, उत्तराखंड में भी मिला-जुला असर देखने को मिला. बंद के आह्वान पर राजधानी देहरादून में कोई खास असर दिखायी नहीं दिया और स्कूल, कॉलेज, पेट्रोल पंप, बाजार आदि अन्य दिनों की तरह खुले. राजस्थान में भी व्यापक असर देखा गया. बंद के समर्थन में बाजार में दुकानें, व्यावसायिक संस्थान, स्कूल और अन्य शैक्षणिक संस्थाएं को बंद रही.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here