एशिया कप: विराट के बगैर टीम इंडिया को चाहिए ‘गाइड’ धोनी का साथ

0
69

नई दिल्ली
टीम इंडिया के नियमित कप्तान विराट कोहली को एशिया कप से आराम दिया गया है और उनकी अनुपस्थिति में टीम इंडिया की कमान रोहित शर्मा संभालेंगे। ऐसे में पूर्व कप्तान महेंद्र सिंह धोनी से काफी उम्मीदें रहेंगी कि वह टीम इंडिया का ‘गाइड’ के तौर पर रणनीति बनाने में साथ दें। इंग्लैंड से टेस्ट सीरीज 1-4 से हारने के बाद टीम इंडिया से उम्मीद है कि वह उस हार को भुलाकर एशिया कप में शानदार प्रदर्शन करेगी। टूर्नमेंट में भारत का पहला मुकाबला 18 सितंबर को हॉन्ग कॉन्ग से होना है। धोनी का इंग्लैंड में प्रदर्शन कुछ खास नहीं रहा था लेकिन एशिया कप में वह अपने फैंस को निराश नहीं करना चाहेंगे। साथ ही उनके अनुभव और ज्ञान का लाभ भी टीम इंडिया उठाना चाहेगी।

धोनी ने करीब 18 महीने पहले कप्तानी छोड़ दी थी लेकिन आज भी टीम के युवा खिलाड़ी उनकी रणनीति को मानते हैं। अगले साल वर्ल्ड कप होना है और धोनी के पास भी एशिया कप में एक अच्छा मौका है। हालांकि एशिया कप के लिए टीम इंडिया का नेतृत्व कर रहे रोहित शर्मा ने कहा कि वर्ल्ड कप में काफी समय है और एशिया कप में कॉम्बिनेशन का प्रयोग करने का एक अच्छा मौका रहेगा।
दिनेश कार्तिक को भी एशिया कप के लिए टीम इंडिया में जगह दी गई है। हालांकि विकेटकीपिंग का जिम्मा महेंद्र सिंह धोनी ही संभालेंगे। युवा ऋषभ पंत को इस टूर्नमेंट के लिए भारतीय टीम में जगह नहीं दी गई। यह संभव नहीं लगता कि टीम मैनेजमेंट दिनेश कार्तिक जैसे खिलाड़ी को धोनी की रिप्लेसमेंट के तौर पर देख रहा है। वर्ल्ड कप से पहले धोनी की भूमिका में किसी को अच्छे से तैयार करना काफी मुश्किल है।

नहीं मिला आराम का वक्त
इंग्लैंड में 3 महीने के लंबे दौरे के बाद भारत को अब एशिया कप में दम दिखाना है। भारतीय टीम प्रबंधन ने 75 प्रतिशत वही टीम संयुक्त अरब अमीरात भेजी है जो इंग्लैंड दौरे पर वनडे फॉर्मेट में खेली थी। कुछ प्लेयर्स टेस्ट फॉर्मेट में भी खेले। उन्हें केवल 3 दिन का आराम दिया गया और फिर दुबई के लिए रवानगी हो गई।

भुवनेश्वर को इस तरह दी राहत
टीम प्रबंधन से जुड़े एक सूत्र ने हमारे सहयोगी अखबार टाइम्स ऑफ इंडिया को बताया कि भुवनेश्वर कुमार को कुछ राहत देने के लिए नेट्स में अभ्यास के लिए 6 गेंदबाजों को यूएई भेजा गया है। उन्होंने कहा, ‘भुवनेश्वर कुमार चोट से उबरे हैं और ऐसे में उन पर ज्यादा दबाव न पड़े, इसलिए 6 गेंदबाजों को नेट्स पर अभ्यास के लिए भेजा गया है। आईसीसी अकादमी में गेंदबाज काफी युवा हैं और गैर अनुभवी हैं।’

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here