आधार डीटेल लेकर इंस्टैंट कार्डलेस लोन दे रही हैं फ्लिपकार्ट और ऐमजॉन

0
133

अपनी ऐनुअल फ्लैगशिप सेल से पहले फ्लिपकार्ट और ऐमजॉन ने ग्राहकों को क्रेडिट पर सामान देने के लिए आधार के इस्तेमाल का ऐलान किया है। कुछ वकीलों ने दोनों ईकॉमर्स कंपनियों के इस कदम को सुप्रीम कोर्ट के हालिया फैसले के खिलाफ बताया है। कोर्ट ने प्राइवेट कंपनियों को ग्राहकों से आधार डीटेल्स मांगने से मना किया है। ऐमजॉन का द ग्रेट इंडियन फेस्टिवल 10 से 15 अक्टूबर तक जबकि फ्लिपकार्ट की बिग बिलियन डे सेल 10 से 14 अक्टूबर तक चलनेवाली है। दोनों कंपनियों ने बिक्री बढ़ाने के लिए क्रेडिट/डेबिट कार्ड के बिना ही इंस्टैंट क्रेडिट ऑफर कर रही हैं। इसके लिए ग्राहकों को अपना आधार आईडी नंबर देना होगा। इंस्टैंट लोन से उन ग्राहकों को टारगेट किया जाएगा जो ईकॉमर्स प्लैटफॉर्म पर सामान चुनकर अपने कार्ट में रख तो लेते हैं, लेकिन पैसे या लोन के अभाव में वह ऑर्डर नहीं कर पाते।

ऐसे ग्राहकों को ध्यान में रखते हुए ऐमजॉन और फ्लिपकार्ट ने अपने-अपने मोबाइल ऐप पर 60-60 हजार रुपये तक के क्रेडिट ऑफर कर रही हैं, वह भी ब्याज मुक्त। ऐप पर अपना पैन और आधार नंबर डालकर ग्राहक पता कर सकते हैं कि उन्हें कितनी रकम का क्रेडिट दिया गया है। दरअसल, कंपनियां ग्राहकों की पिछली खरीदारियों और पेमेंट हिस्ट्री के मुताबिक क्रेडिट के रूप में अलग-अलग रकम ऑफर कर रही हैं।

टाइम्स ऑफ इंडिया ने जिन वकीलों से बात की है, उन्होंने कहा कि ईकॉमर्स कंपनियों का यह ऑफर सुप्रीम कोर्ट के फैसले का सीधा-सीधा उल्लंघन है। पूर्व अतिरिक्त महान्यायवादी (अडिशनल सॉलिसिटर जनरल) पी. विल्सन ने कहा कि सुप्रीम कोर्ट का आदेश बिल्कुल स्पष्ट है कि प्राइवेट कंपनियों द्वारा इस तरह की जानकारियां मांगने को किसी भी तरह से न्यायोचित नहीं ठहाराया जा सकता है।

वहीं, प्राइवेट लॉ फर्म के मालिक रमेश कुमार के मुताबिक, कंपनियां अपने प्लैटफॉर्म पर किसी भी तरह की स्कीम के लिए आधार डीटेल्स नहीं मांग सकती हैं। जब फ्लिपकार्ट के प्रवक्ता से संपर्क किया गया तो उन्होंने कहा कि कंपनी सभी कानूनों और सुप्रीम कोर्ट के फैसले का पालन करने के प्रति पूर्णतः समर्पित है। वहीं, ऐमजॉन इंडिया के प्रवक्ता ने कहा कि कंपनी के लिए दुनियाभर में स्थानीय कानूनों का पालन करना शीर्ष प्राथमिकता रही है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.