पूर्व डीडीसी प्रभात सिन्हा व जिप नाजिर राकेश यादव होंगे बर्खास्त

0
22

जिला परिषद के 89 करोड़ रुपए सृजन की भेंट चढ़ने के बाद सीबीआई की चल रही कार्रवाई के बीच पंचायती राज विभाग मंगलवार को हरकत में आया। अफसर अब अपने विभाग के दोषियों पर कार्रवाई करेंगे।

विभाग के संयुक्त सचिव ओमप्रकाश यादव ने डीएम प्रणव कुमार को पत्र लिखा है। इसमें उन्होंने सृजन से कनेक्शन वाले विभागीय अफसर-कर्मचारियों पर प्रपत्र क गठित करने कहा है। ऐसे कर्मचारियों की बर्खास्तगी होगी। सृजन में गई राशि बैंक से वसूल होगी। साथ ही जिस सीए ने समय-दर-समय ऑडिट के बाद भी इस घोटाले को नहीं पकड़ा। उन पर भी कार्रवाई होगी। विभाग ने कार्रवाई की पूरी रिपोर्ट भी तलब की है।

विभाग के इस आदेश के बाद पूर्व डीडीसी प्रभात कुमार सिन्हा और नाजिर राकेश कुमार यादव पर कार्रवाई होगी।

पूर्व डीडीसी-नाजिर ने ये किया था
2013 में पंचायती राज विभाग से जिला परिषद को करीब 8.79 करोड़ सृजन के खाते में जमा हुए। 13वें वित्त आयोग की राशि जमा करने इंडियन बैंक में 23 मार्च 2013 को तत्कालीन डीडीसी के नाम से खाता खोला।

लेकिन बैंकर चेक 16 मार्च 2013 को जारी हुए, जबकि इस तारीख में विभाग का खाता ही बैंक में नहीं था।

इसमें 83 लाख 62 हजार जिला परिषद, 1 करोड़ 65 लाख 39 हजार पंचायत समिति व 6 करोड़ 30 लाख ग्राम पंचायत मद के थे। इसका उल्लेख जिप के रजिस्टर में नाजिर राकेश कुमार ने किया था। उस समय डीडीसी प्रभात कुमार सिन्हा थे। सीबीआई जांच में आया कि पूर्व डीडीसी ने पीएल चेक 16 मार्च 2013 को ट्रेजरी के नाम दिया, जिसे इंडियन बैंक के मेन ब्रांच के खाते में जमा करने का निर्देश दिया था।

पूर्व डीडीसी प्रभात सिन्हा, सृजन पूर्व सचिव मनोरमा व बैंकर्स ने नाजिर राकेश की मिलीभगत से फर्जी पे-स्लीप तैयार राशि सृजन के खाते में ट्रांसफर कर किए।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here