आदिवासी टोपी, शहरी नक्सलवाद के बहाने पीएम मोदी ने साधा कांग्रेस पर निशाना

0
19

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी आज छत्तीसगढ़ के दौरे पर हैं। बता दें कि छत्तीसगढ़ विधानसभा चुनाव के पहले चरण की वोटिंग के लिए चुनाव प्रचार की अंतिम तारीख 10 नवंबर है, वहीं 12 नवंबर को वोट डाले जाएंगे। यही वजह है कि जहां एक तरफ पीएम मोदी आज छत्तीसगढ़ में हैं, वहीं कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी भी छत्तीसगढ़ में ही मौजूद हैं। यही वजह है कि छत्तीसगढ़ विधानसभा चुनाव के लिए आज का दिन काफी अहम है। अपने छत्तीसगढ़ दौरे के दौरान प्रधानमंत्री मोदी ने छत्तीसगढ़ के जगदलपुर में एक जनसभा को संबोधित किया। अपने संबोधन में पीएम मोदी ने जहां रमन सरकार की उपलब्धियों का उल्लेख किया, वहीं नक्सलवाद पर बड़ा हमला बोला। पीएम मोदी ने कहा कि “छत्तीसगढ़ में भाजपा सरकार से पहले कांग्रेस की सरकार थी, लेकिन उस दौरान छत्तीसगढ़ का कोई विकास नहीं हुआ। पीएम मोदी ने कहा कि हम बस्तर जिले के विकास के लिए काफी प्रयास कर रहे हैं और यहां के लोगों के जीवन में गुणात्मक सुधार के लिए काम कर रहे हैं।”

प्रधानमंत्री मोदी ने इसके बाद नक्सलवाद पर हमला बोलते हुए कहा कि “जिन बच्चों के हाथों में कलम दी जानी चाहिए थी, उनके हाथ में बंदूक थमा दी गई। ऐसी है नक्सलवाद की मानसिकता! आज शहरी नक्सली एअर कंडीशन घरों में रहते हैं और उनके बच्चे विदेशी यूनिवर्सिटी में पढ़ते हैं। लेकिन रिमोट सिस्टम के तहत वो यहां आदिवासी बच्चों का जीवन तबाह कर रहे हैं।” पीएम मोदी ने कहा कि दिल्ली में बैठी सरकार 18 साल पुराने इस राज्य के विकास के लिए राज्य सरकार के साथ मिलकर लगातार काम कर रही है और पिछले 4 सालों के दौरान छत्तीसगढ़ के विकास का इंजन डबल इंजन से दौड़ रहा है। प्रधानमंत्री ने लोगों से अपील करते हुए कहा कि बस्तर के लोग कांग्रेस को सबक सिखाएं, जो शहरी नक्सलवाद का बचाव कर रही है। पीएम मोदी ने इस बात का भी उल्लेख किया कि अटल बिहारी वाजपेयी ने छत्तीसगढ़ को अलग राज्य बनाया।

पीएम मोदी ने कांग्रेस पर हमला बोलते हुए कहा कि दलित और पिछड़े कांग्रेस के लिए खजाने की तरह हैं। कांग्रेस आदिवासी लोगों का मजाक बनाती थी। लेकिन अटल बिहारी वाजपेयी की सरकार में पहली बार आदिवासियों के बारे में सोचते हुए अलग आदिवासी मंत्रालय का गठन किया गया। पीएम मोदी ने कहा कि एक बार वह उत्तर पूर्व के दौरे पर गए थे, वहां उन्हें जो आदिवासी टोपी पहनायी गई, उसका कांग्रेस के लोगों ने मजाक उड़ाया था। नक्सलवाद की आलोचना करते हुए पीएम मोदी ने कहा कि हाल ही में दूरदर्शन का एक बहादुर कैमरामैन अच्युतानंद साहू की नक्सलियों द्वारा हत्या कर दी गई। जबकि वह अपने हाथ में बंदूक लेकर नहीं बल्कि कैमरा लेकर आया था। हाल ही में हुए नक्सली हमले में शहीद हुए जवानों का जिक्र करते हुए पीएम मोदी ने कहा कि कांग्रेस के लिए नक्सली क्रांतिकारी हैं! लेकिन ये कैसी शब्दावली है? इन्हीं बातों के साथ पीएम मोदी ने भाजपा को वोट देने और रमन सिंह की सरकार को फिर से सत्ता में लाने की अपील की।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here