अब NEFT के ज़रिए 24 घंटे, सातों दिन होगा ऑनलाइन ट्रांसफर, RBI कर रहा है तैयारी, जानिए- क्या होंगे बदलाव

0
47

नई दिल्ली: भारतीय रिज़र्व बैंक (आरबीआई) बैंकिंग घंटों के बाद भी ऑनलाइन पैसों के लेनदेन को सुगम बनाने के लिए एक बड़ा कदम उठाने की तैयारी कर रहा है. आरबीआई ने अपने पेमेंट एंड सेटलमेंट सिस्टम के विज़न डॉक्यूमेंट 2019-21 में इस बात का प्रस्ताव दिया है कि एनईएफटी (National Electronic Funds Transfer) के ज़रिए फंड ट्रांसफर को हफ्ते में 24 घंटे और सातों दिन कर दिया जाए.

इसके अलावा रिज़र्व बैंक ऑनलाइन आरटीजीएस (Real Time Gross Settlement) के समय को बढ़ाने की संभावनाओं की भी जांच करेगा.

अभी क्या है ट्रांजैक्शन की लिमिट?अगर हम एचडीएफसी बैंक की बात करें, तो इसके कस्टमर फिलहाल एनईएफटी के ज़रिए कहीं भी एक लाख से 25 लाख रुपए तक नेट बैंकिंग के ज़रिए एक दिन में भेज सकते हैं. (नोट: ये रकम बैंक के हिसाब से बदल भी सकती है)

जबकि आरटीजीएस के ज़रिए एक दिन में दो लाख से 25 लाख रुपए तक नेट बैंकिंग का इस्तेमाल करके भेजे जा सकते हैं.

गौर करने वाली बात ये है कि फिलहाल आप ये ऑनलाइन लेन देन रविवार और महीने के दूसरे और चौथे शनिवार को नहीं कर सकते हैं. इसके अलावा बैंक हॉलिडे पर भी आप ये ट्रांजैक्शन नहीं कर सकते हैं.

कामकाजी दिनों में फंड ट्रांसफर के लिए एनईएफटी का इस्तेमाल सुबह 8 बजे से लेकर शाम के 7 बजे तक ही किया जा सकता है. इसके अलावा कामकाजी शनिवार को इसका वक्त सुबह 8 बजे से लेकर दोपहर 1 बजे तक ही रहता है. (नोट: ट्रांजैक्शन का वक्त हर बैंक में अलग अलग हो सकता है)

ऑनलाइन आरटीजीएस ट्रांजैक्शन का वक्त और भी कम है. फिलहाल इसके ज़रिए शाम 4 बजे तक ही पैसे ट्रांसफर किए जा सकते हैं. (नोट: ट्रांजैक्शन का वक्त हर बैंक में अलग अलग हो सकता है)

फौरन पैसे भेजने के लिए अभी कौन सी व्यवस्था है?
कस्टमर ऑनलाइन आईएमपीएस सेवा के ज़रिए हफ्ते के सातों दिन, 24 घंटे कहीं भी फौरन पैसे ट्रांसफर कर सकते हैं, लेकिन इसके ज़रिए अधिकतम दो लाख रुपए की रकम ही ट्रांसफर की जा सकती है.

अब अगर आरबीआई एनईएफटी के ज़रिए पैसे ट्रांसफर करने की समय सीमा को हफ्ते में सातों दिन, 24 घंटे कर देता है, तो ऑनलाइन बैंकिंग और फंड ट्रांसफर करने वाले कस्टमर्स को काफी आसानी हो जाएगी. इससे बैंक के कर्मचारियों पर से काम का कुछ बोझ भी कम होगा.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.