IPL में बिना सेमीफाइनल खेले टीमें आखिर कैसे पहुंच जाती हैं फाइनल में?

0
1000

आईपीएल के 10वें संस्करण में आज से प्लेऑफ की जंग शुरू हो जाएगी. अब आपको हम बताते हैं कि प्लेऑफ में पहले दो स्थान पर रहने वाली मुंबई और पुणे की टीम के लिए कोलकाता और हैदराबाद के मुकाबले खिताब जीतने की राह थोड़ी आसान क्यों है?

ऐसा है पॉइंट टेबल, इनके बीच होगा क्वालिफायर वन
14-14 मैच खेलने के बाद प्लेऑफ में पहुंचने वाली चार टीमें हैं- मुंबई, पुणे, कोलकाता और हैदराबाद. मुंबई 20 अंकों के साथ इस साल पॉइंट टेबल में टॉप टीम बनी तो वहीं 18 अंकों के साथ राइजिंग पुणे सुपरजाएंट दूसरे स्थान पर रहीं. अब इन दोनों टीमों के बीच पहला क्वॉलीफायर 16 मई को मुंबई के वानखेड़े स्टेडियम में खेला जाएगा.

एलिमिनेटर में हारने वाली टीम हो जाएगी ‘आउट’

वहीं, तीसरे और चौथे स्थान पर रहने वाली कोलकाता नाइटराइडर्स और सनराइजर्स हैदराबाद की टीमें एलिमिनेटर मैच में 17 मई को बैगलुरु में टकराएंगी. इस मैच की विजेता दूसरा क्वालिफायर खेलेगी. खैर, चलिए अब आपको थोड़ा प्ले-ऑफ की पहेली से रूबरू करवाते है. आखिर कैसे क्वालिफायर-वन में खेलने वाली मुंबई और पुणे की टीम मैच हारने के बाद भी खिताब की रेस में बनी रहेंगी?

प्लेऑफ के गेम को ऐसे समझें…
नियमों के मुताबिक पहला क्वालिफायर खेलने वाली मुंबई और हैदराबाद के पास मैच हारने का बावजूद एक और मौका मिलेगा, जबकि एलिमिनेटर राउंड खेल रही कोलकाता और हैदराबाद में से मैच हारेगा उसका पत्ता टूर्नामेंट में वहीं से कट जाएगा. जबकि इस मैच यानि कि एलिमिनेटर के विजेता को पहले क्वॉलीफायर में हारने वाली टीम से दूसरे क्वॉलिफायर में भिड़ना होगा तब कहीं जाकर फाइनल का टिकट पक्का होगा.

क्रिकेट का ये इकलौता टूर्नामेंट है, जहां पर फाइनल में पहुंचने के लिए टीमों को सेमीफाइनल की राह से नहीं जुजरना पड़ता है. लेकिन, इसके बावजूद आईपीएल का हर लीग मैच बेहद अहमियत रखता है.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.