IPL-10 क्‍वालीफायर 2- रोहित और गंभीर की लड़ाई में जो जीता उसे मिलेगा सिकंदर बनने का मौका

0
1237

परंपरागत अपोनेंट मुंबई इंडियंस और कोलकाता नाइट राइडर्स आईपीएल-10 के फाइनल में जगह बनाने के लिए शुक्रवार को एम चिन्नास्वामी स्टेडियम में आमने-सामने होंगे। बारिश से बाधित अपने पिछले मैच में सनराइजर्स हैदराबाद को हराकर दूसरे क्वालीफायर में कदम रखने वाली कोलकाता आईपीएल के लीग मैचों में मुंबई से दो बार मिली हार का बदला भी लेना चाहेगी। पहले मैच में मुंबई ने कोलकाता को चार विकेट से हराया था, वहीं दूसरे मैच में मुंबई ने नौ रनों से जीत हासिल की थी। मुंबई को पहले क्वालीफायर मैच में राइजिंग पुणे सुपरजाएंट ने 20 रनों से हराया था। इसी कारण रोहित शर्मा की कप्तानी वाली टीम को दूसरे क्वालीफायर में उतरने के लिए मजबूर होना पड़ा। पिछले नौ सीजन में कोलकाता और मुंबई दो-दो बार आईपीएल खिताब पर कब्जा जमा चुकी हैं और दसवें सीजन में वो एक बार फिर खिताबी दौड़ में शामिल होने के लिए जी-जान लड़ा देंगी।

पिछले मैच से सबक लेगी मुंबई

इस साल मुंबई के पास पारी की शुरुआत के लिए लेंडल सिमंस और पार्थिव पटेल जैसे मजबूत सलामी बल्लेबाज हैं। वहीं कप्तान रोहित शर्मा, अंबाती रायुडू और कीरोन पोलार्ड जैसे दमदार बल्लेबाज भी हैं। टीम को जरूरत के वक्त पांड्या भाइयों (हार्दिक पांड्या और कृणाल पांड्या) ने भी अच्छा प्रदर्शन किया है। मुंबई की गेंदबाजी की बात की जाए तो उसके पास श्रीलंकाई खिलाड़ी लसिथ मलिंगा और न्यूजीलैंड के खिलाड़ी मिशेल मैक्लीनाघन हैं। वहीं लास्ट ओवर्स में खेल को पलटने के लिए टीम के पास जसप्रीत बुमराह और हार्दिक जैसे खिलाड़ी हैं। लीग में अब तक खेले गए मैचों में से 10 मुकाबले जीतकर आठ टीमों की टैली में टॉप पर रहने वाली मुंबई शानदार फॉर्म में रही है। उसे अगर फाइनल में जगह बनानी है तो पुणे के खिलाफ मिली हार को भुलाकर आगे बढऩा होगा।

केकेआर को सुधारनी होगी बैटिंग

दूसरी तरफ, सनराइजर्स हैदराबाद के खिलाफ अपना पिछला मैच जीतने वाली कोलकाता के पास कप्तान गौतम गंभीर, रॉबिन उथप्पा और क्रिस लिन जैसे बल्लेबाज हैं, जो किसी भी स्थिति में टीम को संभाल सकते हैं। हालांकि कप्तान गंभीर ने इस बात पर जोर दिया है कि टीम को उसकी बल्लेबाजी फॉर्म को सुधारने की जरूरत है। पिछले मैच में हैदराबाद के खिलाफ कोलकाता के गेंदबाजों ने शानदार प्रदर्शन किया। चोट से वापसी करने वाले नाथन कूल्टर नाइल ने तीन अहम विकेट लेकर हैदराबाद की पारी को 128 रनों पर रोकने में अहम भूमिका निभाई थी। नाइल के अलावा टीम के पास उमेश यादव, पीयूष चावला, कुलदीप यादव और ट्रेंट बोल्ट जैसे गेंदबाज हैं। यह देखना भी बाकी है कि मुंबई के खिलाफ होने वाले मैच में मनीष पांडे की वापसी होती है या नहीं।इसलिए मुंबई का पलड़ा भारी!

केकेआर और मुंबई इंडियंस के आईपीएल से जुड़े आंकड़ों पर गौर करें तो मुंबई का पलड़ा थोड़ा भारी नजर आता है। केकेआर का मुंबई इंडियंस के खिलाफ जीत-हार का रिकॉर्ड 5-15 है। मतलब ये कि केकेआर ने सिर्फ 5 मैच जीते हैं, जबकि मुंबई के खाते में 15 जीत दर्ज है। यही नहीं मुंबई ने इस साल टूर्नामेंट के लीग दौर में केकेआर को दोनों मैचों में हराया था। मुंबई ने इस सीजन की पहली जीत केकेआर के खिलाफ ही दर्ज की थी, जब पिछले महीने उसे एक गेंद बाकी रहते चार विकेट से हराया था। मुंबई ने उसे आखिरी लीग मैच में नौ रन से हराया था।गंभीर के पास नंबर-1 बनने का मौका

ऑरेंज कैप की रेस में फिलहाल डेविड वार्नर 641 रनों के साथ टॉप पर चल रहे हैं, लेकिन इस बात की पूरी संभावना है कि गंभीर वार्नर को पछाड़कर टूर्नामेंट में सबसे ज्यादा रन बनाने वाले बल्लेबाज बन जाएं। गंभीर वॉर्नर से 155 रन पीछे हैं। अगर कोलकाता की टीम फाइनल में पहुंचती है तो गंभीर के पास वार्नर को पछाड़कर ऑरेंज कैप हासिल करने का मौका होगा। अगर गंभीर की टीम फाइनल तक पहुंचती है और गंभीर दोनों मैचों में हाफसेंचुरी लगाते हैं तो वो आईपीएल इतिहास में सबसे ज्यादा हाफसेंचुरी लगाने वाले बल्लेबाज बन सकते हैं। आईपीएल इतिहास में सबसे ज्यादा हाफसेंचुरी लगाने का रिकॉर्ड फिलहाल वार्नर (36) के नाम है और गंभीर उनसे सिर्फ एक हाफसेंचुरी (35) पीछे हैं।गंभीर के पास धोनी को भी पछाडऩे का मौका है। गंभीर अगर इस बार अपनी टीम को खिताब दिला देते हैं तो वो ऐसा मुकाम हासिल कर लेंगे जो महेंद्र सिंह धोनी भी नहीं कर सके हैं। अब तक धोनी के अलावा गौतम गंभीर और रोहित शर्मा ही ऐसे कप्तान हैं, जिन्होंने आईपीएल ट्रॉफी दो-दो बार जीती है। ऐसे में गंभीर के पास इस बार तीसरी बार ट्रॉफी जीतने का ऐतिहासिक मौका होगा।

हेड टू हेड

कुल मैच: 20

मुंबई जीता: 15

केकेआर जीता: 05

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.