चैंपियंस ट्रॉफी: बांग्लादेश को हल्के में ना ले भारत, जानिए भारत को क्यूं रहना होगा सावधान

0
1303

नई दिल्ली: चैंपियंस ट्रॉफी में टीम इंडिया ने साउथ अफ्रीका को नॉक-आउट मुकाबले में हरा दिया और साथ ही पाकिस्तान ने श्रीलंका को हरा कर सेमीफाइनल में जगह पक्की की. अब भारतीय टीम का सेमीफाइनल में बांग्लादेश से मुकाबला होगा.

बांग्लादेश ने न्यूजीलैंड को हराकर सेमीफाइनल में प्रवेश किया है

बांग्लादेश ने न्यूजीलैंड को हराकर सेमीफाइनल में प्रवेश किया है. कहीं से ऐसा नहीं लग रहा था कि बांग्लादेश सेमीफाइनल तक का रास्ता बना पाएगी. क्योंकि उसके पूल में इंग्लैंड, ऑस्ट्रेलिया और न्यूजीलैंड जैसी दिग्गज टीमें थीं. जो सेमीफाइनल में पहुंचना का दम रखती थीं. लेकिन सबको चौंकाकर बांग्लादेश ने भी अंतिम चार में जगह बना ली. बांग्लादेश की टीम पिछले कुछ सालों में ऐसे-ऐसे कारनामे कर चुकी है कि उसे सबसे खतरनाक टीमों की लिस्ट में सबसे ऊपर रखा जाता है. इस नॉक-आउट मैच में भारत हलके में बांग्लादेश को बिलकुल नहीं लेना चाहिए खासकर जब इतिहास ऐसा हो 2007 विश्वकप में बांग्लादेश ने भारत नॉक-आउट मुकाबले में हराया था.

बांग्लादेश बीते सालों में एक बेहतर टीम बनी है

2007 विश्वकप का नॉक-आउट मैच था। भारत के सामने कागजों पर कमजोर दिखने वाली बांग्लादेश की टीम थी। पोर्ट ऑफ स्पेन के क्वींस पार्क ओवल मैच हुआ तो सभी को लग रहा था कि भारत इस मैच को आसानी से जीत लेगी लेकिन बांग्लादेश ने बड़ा उलटफेर कर दिया था. बांग्लादेश ने यह मैच 5 विकेट से जीत लिया और भारत का विश्वकप जीतने के सपने को रौंद दिया। बांग्लादेश बीते सालों में एक बेहतर टीम बनी है। भारत निश्चित तौर पर बांग्लादेश के खिलाफ पूरे दमखम से उतरेगा।

कई मुकाबलों में बांग्लादेश ने भारत को हराया है

टीम इंडिया 2015 में सीरीज खेलने बांग्लादेश पहुंची थी. उस वक्त टीम टॉप टीमों में शुमार थी. सभी को पता था कि ये सीरीज टीम इंडिया के ही नाम रहेगी. टीम इंडिया ने वहां 3 वनडे मैचों की सीरीज खेली और दो मैचों में करारी हार का सामना करना पड़ा. पहले मैच में बांग्लादेश ने 79 रन से मात दी तो वहीं दूसरे मैच में डकवर्थ लुईस नियम के तहत 6 विकेट से टीम इंडिया को हरा डाला. आखिरी वनडे में लाज बचाने की जंग में भारत ने तीसरा मुकाबला तो जीत लिया लेकिन सीरीज गंवा बैठे.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.