दावत-ए-इफ्तार : गले मिले नीतीश-लालू, पर नहीं हुई कोई सीधी बात, साफ झलकी तल्खियां

0
791

पटना : राजद प्रमुख लालू प्रसाद के आवास पर शुक्रवार की शाम आयोजित दावत-ए-इफ्तार पर राष्ट्रपति चुनाव का असर साफ झलक रहा था. सभी लोगों की निगाहें लालू प्रसाद और मुख्यमंत्री नीतीश कुमार की ओर टिकी रही. दोनों 33 मिनट तक आसपास में साथ-साथ बैठे रहे पर लालू प्रसाद और मुख्यमंत्री नीतीश कुमार की बात नहीं हुई. घंटे भर पहले से जुटे पत्रकारों की पूरी जमात नीतीश कुमार के पहुंचने के बाद से ही दोनों के चेहरे के भाव को पढ़ती रही.

मुख्यमंत्री नीतीश कुमार आये तो लालू प्रसाद ने उनका स्वागत किया और टोपी भी पहनायी. एक ही सोफे पर दोनों नेता बैठे. लालू प्रसाद कभी अपने अंदाज में माइक पर कभी दाहिनी ओर बैठे शिक्षा मंत्री डॉ अशोक चौधरी से बात करते तो करीब बैठे मुख्यमंत्री अपनी बायीं तरफ बैठे विधानसभा अध्यक्ष विजय कुमार चौधरी के साथ बात करने में व्यस्त रहे. साथ बैठे लालू प्रसाद की नजर सीधे सामने आयी जनता की ओर टिकी रही.

आम तौर पर आम लोगों के लिए बंद रहने वाला 10, सर्कुलर रोड का दरवाजा शुक्रवार को रोजेदारों के लिए खोल दिया गया था. दावत-ए-इफ्तार के आयोजन में लोगों का जलसा लगा हुआ था.

चार बजे से ही रोजेदार व अन्य लोग लालू आवास की तरफ बढ़ते जा रहे थे. आवास परिसर को पूरे पंडाल से सजाया गया था. गैर एनडीए दलों की बैठक के बाद लालू प्रसाद ने राष्ट्रपति चुनाव को लेकर नीतीश कुमार से अपील की थी और कहा था कि वह पटना लौटने के बाद इफ्तार में इस मसले पर बात करेंगे. पर जब दोनों मिले तो कोई बात नहीं हुई. साथ ही दोनों नेताओं ने इस अवसर पर किसी तरह का साझा बयान भी नहीं दिया. इधर, मीडिया के बार-बार अनुरोध के बाद दोनों गले मिले और एक दूसरे को अभिवादन कर मुख्यमंत्री नीतीश कुमार 10, सर्कुलर रोड से बाहर निकल आये. लालू प्रसाद का पूरा परिवार मुख्यमंत्री को छोड़ने दरवाजे पर खड़ी उनकी गाड़ी तक गया. लालू प्रसाद के आवास पर आयोजित

इफ्तार में बड़ी संख्या में रोजेदार, पार्टी के नेता, नगर विकास एवं आवास मंत्री महेश्वर हजारी, राजस्व एवं भूमि सुधार मंत्री कृष्णनंदन वर्मा, समाज कल्याण मंत्री मंजू वर्मा सहित समाज के सभी वर्ग के लोग मौजूद थे. उनके आवास का पूरा चप्पा-चप्पा इफ्तार में शामिल लोगों से खचाखच भरा था.

बातचीत नहीं होने की चर्चा नेताओं के बीच भी रही

मुख्यमंत्री नीतीश कुमार और राजद सुप्रीमो के बीच बातचीत नहीं होने की चर्चा नेताओं के बीच भी रही. 10 सर्कुलर रोड के अंदर बनाये गये पंडाल में नेताओं और मंत्रियों को बैठने की व्यवस्था की गयी थी. इसमें दाहिने तरफ शिवानंद तिवारी, मीसा भारती, स्वास्थ्य मंत्री तेज प्रताप यादव, शिक्षा मंत्री अशोक चौधरी, राजद प्रमुख लालू प्रसाद, मुख्यमंत्री नीतीश कुमार, पूर्व मुख्यमंत्री राबड़ी देवी और सबसे बायें तरफ उपमुख्यमंत्री तेजस्वी प्रसाद यादव बैठे थे.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.