जिम्बाब्वे ने श्रीलंका को उसी की जमीं पर बुरी तरह धोया, टूटे कई रिकॉर्ड

0
859

नई दिल्ली। जिम्बाब्वे ने क्रिकेट की दुनिया में धमाका कर दिया है। एक तरफ जहां भारतीय फैंस की नजर भारत-वेस्टइंडीज वनडे मुकाबले पर थी, तभी श्रीलंका में एक ऐसा मैच खेला गया जिसने नया इतिहास रच दिया। श्रीलंका के गाले मैदान पर खेले गए वनडे मुकाबले में 11वीं रैंकिंग वाली जिम्बाब्वे की टीम ने श्रीलंका को मात दे दी। मात भी ऐसी-वैसी नहीं, ये एक रिकॉर्ड जीत रही जिसने आंकड़े बदलकर रख डाले।

वनडे सीरीज के इस पहले मुकाबले में मेजबान श्रीलंकाई टीम ने टॉस जीतकर पहले बल्लेबाजी करने का फैसला किया। उन्हें 16 रन पर पहला झटका लगा लेकिन इसके बाद गुणाथिलाका ने 60, कुसल मेंडिस ने 86, उपुल थरंगा ने नाबाद 79 और कप्तान एंजेलो मैथ्यूज ने 43 रनों की धुआंधार पारी खेलकर जिम्बाब्वे को करारा जवाब दिया। इन पारियों के दम पर श्रीलंका ने 50 ओवर में 5 विकेट के नुकसान पर स्कोर 316 रन तक पहुंचा दिया। रैंकिंग में कमजोर नजर आने वाली जिम्बाब्वे की टीम के लिए ये लक्ष्य बहुत मुश्किल नजर आने लगा था।

जिम्बाब्वे जवाब देने उतरी तो 12 रन पर उन्हें ओपनर मसाकाद्जा के रूप में पहला झटका लग गया लेकिन उसके बाद शुरू हुआ दूसरे ओपनर सोलोमन मायर का कमाल। इस खिलाड़ी ने पहले 45 गेंदों पर 50 पूरे किए और देखते-देखते 85 गेंदों पर धुआंधार शतक जड़ डाला। मायर ने 14 चौकों की मदद से 96 गेंदों पर 112 रनों की ऐसी एतिहासिक पारी खेल डाली जिसने जिम्बाब्वे को नई उम्मीद दे दी।

मायर तो 33वें ओवर में आउट हो गए लेकिन उसके बाद शॉन विलियम्स ने 65 रनों की पारी खेलकर इन उम्मीदों में और जान भर दी। इसके बाद सिकंदर रजा और मैलकम वॉलर की बारी आई और इन दोनों बल्लेबाजों ने तो कमाल ही कर दिया। सिकंदर रजा ने 56 गेंदों पर नाबाद 67 रन और वॉलर ने 29 गेंदों पर नाबाद 40 रनों की धुआंधार पारी खेल डालीं। दोनों ने मिलकर अपनी टीम को 47.4 ओवर में 4 विकेट के नुकसान पर ही लक्ष्य तक पहुंचा दिया, सिकंदर रजा ने छक्के के साथ टीम को छह विकेट से यादगार जीत दिलाई।

मैच में बने ये रिकॉर्ड

ये पहला मौका था जब किसी भी टीम ने श्रीलंका में वनडे क्रिकेट खेलते हुए 300 या उससे ऊपर के लक्ष्य को हासिल किया हो। श्रीलंकाई जमीन पर वनडे इतिहास में कुल 296 वनडे मुकाबले खेले गए हैं और आज तक कोई भी टीम ये कमाल नहीं कर सकी जो जिम्बाब्वे ने कर दिखाया है।

श्रीलंका में जिम्बाब्वे की यह पहली जीत रही। इससे पहले दोनों टीमों के बीच सभी फॉर्मेट मिलाकर 17 मैच हुए हैं, लेकिन जिम्बाब्वे कभी जीत नहीं पाई।

मायर जिम्बाब्वे के चौथे खिलाड़ी हैं जो श्रीलंका में शतक बनाने में कामयाब रहे हैं। उन्होंने 112 रन बनाकर 1998 में ग्रांट फ्लावर के 112 रन की पारी की बराबरी कर ली।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.