जनधन खातों में जमाराशि 64,564 करोड़ रुपये हुई

    0
    636

    नई दिल्ली
    सरकारी आंकड़ों के अनुसार जन-धन खातों में जमा राशि 64,564 करोड़ रुपये की नई ऊंचाई पर पहुंच गई है और इसमें से 300 करोड़ रुपये तो नोटबंदी के पहले सात महीने में ही जमा किए गए। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की प्रमुख योजनाओं में एक समझी जाने वाली प्रधानमंत्री जन-धन योजना वित्तीय समावेशन की प्रमुख पहल है। इसका उद्देश्य अब तक बैंकिंग सेवाओं से वंचित लोगों को औपचारिक बैंकिंग प्रणाली के दायरे में लाना है।

    इस योजना के तहत शून्य शेष सुविधा वाले खाते खोले जाते हैं। एक आरटीआई आवेदन पर वित्त मंत्रालय ने यह जानकारी दी है। इसके अनुसार 14 जून, 2017 तक 28.9 करोड़ जनधन खाते थे। इनमें से 23.27 करोड़ खाते सार्वजनिक क्षेत्र के बैंकों में जबकि 4.7 करोड़ क्षेत्रीय ग्रामीण बैंकों में और 92.7 लाख निजी बैंकों में हैं। मंत्रालय का कहना है कि इन खातों में कुल 64,564 करोड़ रुपये जमा है। इनमें से 50,800 करोड़ रुपये सार्वजनिक क्षेत्र के बैंकों के जनधन खातों में हैं जबकि 11,683.42 करोड़ रुपये क्षेत्रीय ग्रामीण बैंकों और 2,080.62 करोड़ रुपये निजी बैंकों में हैं।

    16 नवंबर, 2016 तक इस योजना के तहत 25.58 करोड करोड खाते खुलवाए गए थे जिनमें 64,252.15 करोड़ रुपये थे। वित्त राज्य मंत्री संतोष गंगवार ने लोकसभा में एक प्रश्न के लिखित उत्तर में यह जानकारी दी थी। यानी 16 नवंबर, 2016 से लेकर 14 जून, 2017 के बीच करीब 311.93 करोड़ रुपये जमा कराए गए। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने पिछले साल 8 नवंबर को 500 और 1000 रुपये के नोटों का चलन बंद करने की घोषणा की थी।

    LEAVE A REPLY

    Please enter your comment!
    Please enter your name here

    This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.