कश्मीर में अय्याशी कर रहा था लश्कर आतंकी अबु दुजाना, सुरक्षा बलों ने किया ढेर

0
512

सेना की मोस्ट वॉन्टेड आतंकियों की लिस्ट में शामिल लश्कर कमांडर अबु दुजाना कई बार सुरक्षा बलों की गोली का शिकार होते-होते बचा था। बताया जा रहा है कि वह पांच बार सुरक्षा बलों को चकमा देकर भागने में कामयाब रहा था, लेकिन मंगलवार को सेना के जवानों ने उसे इस तरह घेरा कि उसके लिए भागना नामुमकिन हो गया। जानकारी के मुताबिक, वह अपनी पत्नी से मिलने के लिए गांव आया था। इसी दौरान सुरक्षा बलों ने खुफिया जानकारी के आधार पर उसे घेर लिया। पुलिस ने बताया है कि दुजाना खूंखार आतंकी होने साथ-साथ बहुत बड़ा अय्याश भी था और इलाके की लड़कियों के लिए भी बड़ा खतरा बन चुका था।
सूत्रों से मिल रही जानकारी के मुताबिक पिछली बार एनकाउंटर के दौरान उसका आईफोन मौके पर छूट गया था। इस आईफोन के सहारे भी सुरक्षा बलों को उसकी मूवमेंट का पता चला। सुरक्षा बल इसके जरिए लगातर दुजाना की हर गतिविधि पर नजर बनाए हुए थे। मंगलवार की सुबह उसे पुलवामा जिले के हकड़ीपोरा गांव में घेर लिया गया। बताया जा रहा है कि वह अपनी पत्नी से मिलने के लिए गांव में आया था। सुरक्षा बलों को इस बात की जानकारी पहले से थी कि दुजाना अपनी पत्नी से मिलने के लिए वक्त-वक्त पर यहां आता रहा है। इसके पहले भी दो बार उसे यहां देखा गया था। ऐसे में उसके यहां आने की टाइमिंग को बहुत बारीकी से नोटिस किया गया। इस बार जैसे ही उसके आने की खुफिया सूचना मिली, पुलिस और सुरक्षा बल के जवान सादे कपड़ों में वहां पहुंच गए। दो घंटे बाद मौके पर अतिरिक्त फोर्स पहुंची।
इसके बाद जम्मू-कश्मीर पुलिस और उसके स्पेशन ऑपरेशन ग्रुप की अगुवाई में पूरे इलाके को घेर पर सर्च ऑपरेशन शुरू किया गया। पुलिस को सेना की 182 बटालियन, 183 बटालियन, 55 राष्ट्रीय राइफल्स और सीआरपीएफ का सहयोग मिला। खुफिया जानकारी की पुष्टि होने के बाद सुबह 4.30 बजे ऑपरेशन शुरू किया गया था। सर्च ऑपरेशन में पता चला कि दोनों आतंकी एक घर के अंदर छिपे हुए हैं। उन्हें बाहर निकालने की पहले हर संभव कोशिश की गई, लेकिन जब आतंकी बाहर नहीं आए तो इमारत को उड़ाने के सिवा कोई रास्ता नहीं बचा। जम्मू कश्मीर पुलिस ने भी दुजाना के मारे जाने की पुष्टि कर दी है।
पुलिस ने बताया कि दुजाना, लश्कर के A प्लस प्लस कैटिगरी का आतंकी था। यह कैटिगरी सबसे खूंखार आतंकियों को दी जाती है। सेना की ओर से जारी की गई मोस्ट वॉन्टेड आतंकियों की लिस्ट में भी दुजाना शामिल था। उस पर 10 लाख रुपये का इनाम भी घोषित किया गया था, लेकिन उसे मार गिराने की कोशिशें लगातार नाकाम हो रही थीं। पुलिस ने बताया है कि दुजाना जम्मू-कश्मीर में अय्याशी किया करता था। अय्याशी के लिए वह किसी भी घर में घुस जाया करता था। एक तरह से वह इलाके की लड़कियों के लिए भी खतरा बन गया था। पुलिस के मुताबिक, ‘वह बहुत ज्यादा हमलों में शामिल नहीं था, वह बस यहां अय्याशी कर रहा था, वह अय्याश था।’
दुजाना को पकड़ने के लिए सेना की ओर से बीते दिनों कई ऑपरेशन चलाए गए थे, लेकिन कभी स्थानीय लोगों की पत्थरबाजी के चलते तो कभी किसी और वजह से दुजाना भागने में कामयाब हो जाता था। जम्मू-कश्मीर पुलिस के आईजी ने साफ किया है कि आतंकियों में समर्थन में पत्थरबाजी हो या ना हो, कोई बाधा आए या ना आए, हमारा ऑपरेशन जारी रहेगा।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.