सहवाग ने टि्वटर पर फिर जड़ा ‘सिक्सर’, मजाक उड़ाकर इस ‘कंगारु’ को दी जन्मदिन की बधाई

0
849

नई दिल्ली : शानदार और मजेदार ट्वीट करते हुए किसी ने अगर सबसे ज्यादा लोगों दिल जीता है तो वह हैं क्रिकेटर वीरेंद्र सहवाग. मैदान के अंदर और बाहर अपने बिंदास अंदाज के लिए मशहूर पूर्व क्रिकेटर वीरेंद्र सहवाग ने अपने ही अंदाज में ऑस्ट्रेलियाई क्रिकेटर साइमन कैटिच को जन्मदिन बधाई दी है. वीरेंद्र सहवाग ने आज अनोखे ढंग में मजाक उड़ाते हुए बर्थडे विश किया है. सहवाग के ट्वीट मीडिया की सुर्खियां बनते रहते हैं. सोशल मीडिया पर तो उनके जन्मदिन की बधाई देने का अंदाज खासा लोकप्रिय है.

साइमन कैटिच को जन्मदिन की बधाई देते हुए सहवाग ने एक पुरानी पारी की याद दिलाई है. सहवाग ने टि्वटर पर जन्मदिन की बधाई देते हुए लिखा- वंडरफुल शख्स को जन्मदिन मुबारक, साइमन कैटिच. क्या फुलटॉस था बॉस.

दरअसल, सहवाग ने कैटिच को एक पुरानी पारी की याद दिलाई है, जिसमें उन्होंने कैटिच की फुलटॉस गेंद पर शानदार छक्का जड़ा था. साल 2003 में बॉक्सिंग डे टेस्ट में सहवाग ने ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ शानदार 195 रनों की पारी खेली थी.

बता दें कि ऑस्ट्रेलिया में बॉक्सिंग डे का खासा महत्व होता है. साथ ही ऑस्ट्रेलिया में लोग बॉक्सिंग डे टेस्ट मैच का बेसब्री से इंतजार करते हैं. ना सिर्फ ऑस्ट्रेलियाई क्रिकेटर इस दिन क्रिकेट खेलकर गौरवान्वित महसूस करते हैं बल्कि दुनियाभर के क्रिकेटरों का इस अवसर पर मेलबर्न क्रिकेट ग्राउंड में खेलने को बेचैन रहते हैं. एमसीजी का मैदान सज चुका था और भारत के कप्तान सौरव गांगुली ने टॉस जीतकर पहले बल्लेबाजी करने का फैसला किया. किसी ने भी ये नहीं सोचा था कि सौरव गांगुली के नेतृत्व में टीम स्टीव वॉ की टीम को चुनौती पेश करेगी. मेलबर्न में तीसरा मैच खेलने से पहले भारतीय टीम एडिलेड में जीत दर्ज कर सीरीज में 1-0 की बढ़त बना चुकी थी और ऑस्ट्रेलिया की टीम दबाव में थी. सलामी बल्लेबाज वीरेंद्र सहवाग और आकाश चोपड़ा ने अच्छी बल्लेबाजी का नमूना पेश करते हुए टीम को शानदार शुरुआत दी.

पिच से गेंदबाजों को कुछ मदद मिल रही थी और ब्रेट ली ने सहवाग को एक बाउंसर फेंकी जो सीधा उनके हेल्मेट पर जाकर लगी. वहीं ब्रेकन की उछाल भरी गेंद पर भी सहवाग आउट होने से बचे थे. पहले 20 ओवरों में भारत का स्कोर बिना किसी विकेट के सिर्फ 42 रन था. सहवाग ने इस दौरान 59 गेंदों में मात्र 24 रन ही बनाए थे.

सहवाग जैसे बल्लेबाज को ज्यादा देर तक खामोश रखना काफी मुश्किल होता है और जैसे ही स्टुअर्ट मैकगिल गेंदबाजी करने आए वैसे ही सहवाग ने अपने गियर बदल लिए. सहवाग ने मैकगिल का स्वागत लॉन्ग ऑफ के ऊपर से छक्का जड़कर किया. सहवाग के शॉट को देखकर एमसीजी में मौजूद सभी दर्शकों ने खड़े होकर तालियां बजाई.

सहवाग ने मिड विकेट में चौका जड़कर अपने टेस्ट करियर का शतक पूरा किया और जश्न मनाने लगे. सहवाग का ये शतक उन आलोचकों को जवाब था जो कहते थे कि सहवाग विदेशों में फ्लॉप हैं. शतक जड़ने के बाद भी सहवाग ऑस्ट्रेलियाई गेंदबाजों पर कहर बनकर टूटते रहे है.

सहवाग ने अपने 50, 100 और 150 चौका लगाकर पूरे किए थे. सहवाग ने कहा था कि वह 99 पर आकर आक्रामक शॉट खेलने से घबराते नहीं हैं और अगर गेंद उनके दायरे में होती है तो वह उसे बाउंड्री के बाहर भेज देते हैं. और उस दिन भी ठीक यही हुआ था, सहवाग जब 189 रनों पर बल्लेबाजी कर रहे थे तो साइमन कैटिच ने उन्हें फुलटॉस गेंद फेंकी, जिसे सहवाग ने लॉन्ग ऑफ पर छह रनों के लिए खेल दिया. सहवाग अब 195 रनों पर आ चुके थे और दोहरा शतक के लिए उन्हें सिर्फ 5 रनों की दरकार थी. कैटिच ने अगली गेंद फिर से फुलटॉस फेंकी और सहवाग ने फिर से गेंद को हवा में खेल दिया लेकिन इस बार गेंद बाउंड्री के बाहर ना जाकर फील्डर के हाथों में चली गई और सहवाग की पारी का अंत हो गया. सहवाग 195 रनों पर आउट हो गए और अपने दोहरे शतक से मात्र 5 रनों से चूक गए.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.