BRD मेडिकल कालेज गोरखपुर में 72 घंटे में 46 बच्चों की मौत

0
871

गोरखपुर (जेएनएन)। मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ की कर्मस्थली गोरखपुर में उनके लगातार दौरे के बाद भी बच्चों की मौत का सिलसिला जारी है। बीते 72 घंटे में बाबा राघवदास मेडिकल कालेज में 46 बच्चों की मौत हो गई है। इनमें से 11 बच्चों की मौत वहां की महामारी इंसेफ्लाइटिस के कारण हुई है।

उत्तर प्रदेश के स्वास्थ्य मंत्री सिद्धार्थ सिंह के साथ ही चिकित्सा शिक्षा मंत्री आशुतोष टंडन ‘गोपाल’ का लगातार दावा है कि प्रदेश में स्वास्थ्य सेवा पहले से बेहतर हो गई हैं। इसके बाद भी गोरखपुर में मौत का सिलसिला रुक नहीं रहा है। यहां बाबा राघवदास मेडिकल कालेज में आक्सीजन की कमी के कारण 40 बच्चों की मौत का प्रकरण अभी पुराना भी नहीं पड़ा था कि 72 घंटे में 46 बच्चों की मौत के कारण जिले में खलबली मची है।

बाबा राघवदास मेडिकल कालेज के कार्यवाहक प्राचार्य डॉ.पीके सिंह ने बताया कि बीते 72 घंटों में 46 बच्चों की मौत हो गई है। इनमें से सात बच्चे इंसेफ्लाइटिस से पीडि़त थे। बाकी अन्य बीमारियों से ग्रसित थे। उन्होंने कहा कि प्रयास चल रहा है कि यहां बीमारियों के कारण मौत पर अंकुश लग सके।

गोरखपुर के बाबा राघव दास मेडिकल कॉलेज में पिछले 72 घंटों में 46 मौतों की सूचना पर कॉलेज प्रशासन से लेकर प्रशासनिक हलकों में खलबली मची है। बीआरडी मेडिकल कॉलेज के प्रिंसिपल पीके सिंह ने बताया कि पिछले 72 घंंटे में 46 बच्चों की मौत हुई है। इनमें से 11 बच्चों की मौत इन्सेफेलाइटिस की वजह से है जबकि अन्य की मौत अलग-अलग कारणों से हुई। 46 बच्चों की मौत के आंकड़े पर मेडिकल कॉलेज ने स्पष्ट किया कि जान गंवाने वाले सभी लोगों का आंकड़ा एकमुश्त पेश करके भ्रम फैलाया जा रहा है। इसमें ऐसे भी मरीज हैं, जिनका इन्सेफेलाइटिस से कोई ताल्लुक नहीं है।

प्रिंसिपल के मुताबिक शनिवार रात 12 बजे से रविवार की रात 12 बजे तक एनआईसीयू में 6 और आईसीयू में 11 मौत हुईं। रविवार रात इसी समय तक एनआईसीयू में 10 और आईसीयू में 15 यानी 48 घंटे में कुल 42 मौत हुईं। इनमें से 7 की मौत इन्सेफेलाइटिस से हुई बाकी मरीजों की सामान्य मौत है। उन्होंने कहा कि इन तीन दिनों में मरीजों की मौत की संख्या बढ़ने के पीछे की एक वजह मौसम से फैला संक्रमण भी है। उन्होंने बताया कि शनिवार सुबह नौ बजे से सोमवार सुबह नौ बजे तक के 48 घंटे में सात और सोमवार से मंगलवार सुबह तक के 24 घंटे में चार मौतें ही इन्सेफेलाइटिस से हुईं हैं। वहीं 19 नए मरीज भर्ती हुए हैं।

बाबा राघवदास मेडिकल कालेज में नवजात आइसीयू में 10 तथा इसके साथ ही पीडियाट्रिक आइसीयू में 11 बच्चों की मौत हो गई है। बीते 48 घंटे में 66 मरीज भर्ती किए गए थे, जिनमें से 42 की मौत हो गई है। भर्ती मरीजों में इंसेफ्लाइटिस के 19 में से सात मरीजों की मौत हो गई है।

यहां पर इंसेफ्लाइटिस से जिन सात बच्चों की मौत हुई है उनमें संतकबीरनगर व बलिया के दो-दो तथा कुशीनगर, बस्ती व महराजगंज एक-एक बच्चे हैं।

जनवरी से लेकर यहां के बीआरडी मेडिकल कालेज में इंसेफ्लाइटिस के 743 मरीज भर्ती हुए हैं जिनमें से 186 की मौत हुई है।

10-11 अगस्त को बीआरडी मेडिकल कॉलेज में ही 40 बच्चों की मौत हो गई थी। अस्पताल की जांच रिपोर्ट में स्पष्ट हुआ है कि बच्चों की मौत ऑक्सीजन की कमी से हुई थी।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.