आदित्य सचदेव हत्याकांड में आज आ सकता है फैसला- मां ने कहा- मां में बहुत ताकत होती है

0
868

गया: बिहार स्थित गया के चर्चित रोडरेज केस आदित्य सचदेव हत्याकांड में आज फैसला आने वाला है. इस लेकर आदित्य सचदेव की मां ने कहा कि मां में बहुत ताकत होती है. मां तो खुद इंसाफ कर लेती है किसी की जरूरत नहीं पड़ती, लेकिन हमने इंसाफ कानून पर छोड़ा है. भगवान पर छोड़ा है. हम जानते हैं कि हमने 16 महीने कैसे निकाले हैं. हम लोग अपनी जिंदगी जीने की कोशिश कर रहे हैं लेकिन नहीं जी पा रहे.चर्चित रोडरेज आदित्य हत्याकांड में 16 महीने के बाद गया कोर्ट आज फैसला सुना सकती है. 7 मई 2016 को आदित्य की हत्या गोली मार कर की गई थी, जिसमे मुख्य आरोपी एमएलसी का बेटा रॉकी यादव है तथा इस मामले में रॉकी का चचेरा भाई टेनी यादव, एमएलसी का अंगरक्षक राजेश कुमार और एमएलसी पति बिंदी यादव भी है. इस मामले में अब तक कुल 29 लोगों की गवाही पूरी हो चुकी है जिसमे पुलिसकर्मी और जज शामिल हैं. इस मामले में अभी टेनी यादव,राजेश कुमार और बिंदी यादव बेल पर बाहर हैं और रॉकी जेल में है.गौरतलब है कि 19 साल के आदित्य सचदेव की स्थानीय नेता के बेटे ने गोली मारकर हत्या कर दी थी. हत्या के बाद आदित्य की 12वीं कक्षा का रिज़ल्ट आया था जिसमें उन्होंने 70 प्रतिशत अंक हासिल किए थे. 24 साल के रॉकी यादव ने आदित्य को कथित तौर पर इसलिए गोली मार दी थी क्योंकि वह विधायक की रेंज रोवर को ओवरटेक करने की गलती कर बैठा था.

रिजल्ट को लेकर आदित्य के पिता श्याम सुंदर सचदेव और उनकी मां चंदा सचदेव ने कहा था कि उनके बेटे के परीक्षा परिणाम ने उनके दिल के दर्द को और बढ़ा दिया है. सचदेव ने कहा था कि मेरे बेटे ने यह परीक्षा तो पास कर ली लेकिन जिंदगी की परीक्षा में फेल हो गया. अगर वह जिंदा होता तो यह हमारे लिए एक खुशी का पल होता है लेकिन अब तो कहने के लिए कुछ नहीं है. वहीं आदित्य की मां ने कहा था कि हमें बहुत उम्मीद थी लेकिन हमने नंबर चेक नहीं किए, उसके दोस्तों ने बताया है कि उसके 70 प्रतिशत नंबर आए हैं. आदित्य के परिवार के सदस्यों ने एनडीटीवी को बताया था कि वह कॉमर्स का छात्र था और आगे की पढ़ाई दिल्ली या मुंबई से करना चाहता था. आदित्य के दोस्तों ने यह भी बताया था कि वह एक औसत छात्र था और 70 प्रतिशत नंबरों से वह खुश हो जाता.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.