पटना में दीघा-राजीव नगर में अवैध निर्माण हटाने गई पुलिस पर पब्लिक का हमला, थानाध्यक्ष समेत आठ पुलिसकर्मी घायल

0
1658


पटना
राजधानी के दीघा-राजीव नगर इलाके के कृष्णा नगर में अवैध निर्माण हटाने गई पुलिस पर लोगों ने हमला कर दिया है। अभी तक स्थिति तनावपूर्ण बनी हुई है। इस इलाके में कोर्ट के आदेश पर अवैध मकानों को तोड़ने पहुंची पुलिस पर लोगों ने हमला कर दिया और जमकर पथराव किया, जिसमें कई पुलिस वाले घायल हो गए हैं। कई मीडियाकर्मियों को भी चोटें आई हैं। मौके पर एसएसपी मनु महाराज और डीएम संजय अग्रवाल मौजूद हैं। जिलाधिकारी ने कहा है कि इस तरह की घटना काफी शर्मनाक है, जेसीबी और पुलिस के वाहन को अाग के हवाले कर दिया गया है, पुलिसकर्मियों पर हमला कर दिया गया जिसमें कई पुलिस कर्मी घायल हो गए हैं जिनकी स्थिति गंभीर बनी हुई है। प्रशासन ने जनता का ख्याल करते हुए कार्रवाई करने की कोशिश की लेकिन इस घटना में कई लैंड माफिया भी संलिप्त थे जिन्होंने एेसी घटना को अंजाम दिया है। एसएसपी मनु महाराज ने बताया कि ये पूरी तैयारी के साथ किया गया है। भू-माफिया जो भीड़ में शामिल थे उन्होंने ही हमला किया। सुनियोजित तरीके से पुलिस के पहुंचते ही महिलाओं और बच्चों को आगे कर दिया गया और पुलिस पर हमला कर दिया गया। पुलिस बल अब मौजूद है और स्थिति नियंत्रण में है। मिली जानकारी के मुताबिक कोर्ट के निर्देश के बाद आज सुबह कृष्णा नगर में अवैध निर्माण को तोड़ने के लिए पुलिस की टीम जेसीबी के साथ पहुंची। वहां हजारों की संख्या में मौजूद लोगों ने जेसीबी मशीन को क्षतिग्रस्त कर आग के हवाले कर दिया और जमकर पथराव किया। लोगों ने महिलाओं को आगे कर दिया जिससे पुलिस भीड़ को संभाल नहीं सकी और भीड़ के आक्रोश का सामना करना पड़ा। पुलिस के मुताबिक पटना हाइकोर्ट ने अवैध निर्माण को तोड़ने का आदेश दिया था जिसके बाद पुलिस जेसीबी के साथ राजीवनगर के कृष्णानगर इलाके पहुंची और अवैध घरों को तोड़ने की कोशिश की, लेकिन वहां पुलिस के पहुंचते ही लोग काफी संख्या में इकट्ठा होने लगे और देखते ही देखते एक हजार लोग मौके पर पहुंच गए और पुलिस पर हमला कर दिया। आक्रोशित लोगों ने पुलिस की तीन जिप्सी में आग लगा दी है। भीड़ पर काबू पाने के लिए पुलिस ने पचास राउंड की हवाई फायरिंग की है। स्थिति तनावपूर्ण बनी हुई है। मौके पर सिटी एसपी भी पहुंच गए हैं लेकिन भीड़ को काबू में नहीं किया जा सका है। लोगों ने तीन किलोमीटर तक पुलिस को खदेड़ दिया है। पुलिस की फायरिंग के बाद लोग और ज्यादा आक्रोशित हो गए है, लेकिन भीड़ अभी तक मौके पर मौजूद है और टस से मस होने का नाम नहीं ले रही है। लोगों का आक्रोश कम नहीं हो रहा है। लोगों के पथराव से कई पुलिसकर्मी घायल हो गए हैं। लोगों की भीड़ लगातार बढ़ती जा रही है। लोगों का कहना हैे कि हमने यहां की जमीन खरीदा और अब इसपर घर बनाया है और अब घर को तोड़ने आज अचानक पुलिस पहुंच गई, अब हम कहां जाएंगे? लोगों का कहना है कि हम इस जमीन को नहीं छोड़ सकते, हमने कीमत चुकाई है। एेसे में पुलिस की एेसी कार्रवाई क्या उचित है। लोगों का कहना है कि कोर्ट का कोई आदेश नहीं है, पुलिस बेवजह हमलोगों को परेशान कर रही है। पुलिस अब आक्रोशित लोगों पर नए सिरे से कार्रवाई करने की तैयारी कर रही है। भीड़ अब सोनपुर ओवरब्रिज की तरफ बढ़ती जा रही है। दीघा-आशियाना रोड के दोनो छोड़ पर सैकड़ों लोग खड़े है। पुलिस की गाड़ी पर लोगों ने पथराव कर दिया है। स्थिति अब भी तनावपूर्ण बनी हुई है। दीघा थाना से लेकर राजीव नगर तक लोगों की भीड़ जमा है। इन रास्तों में कई जगह पुलिस की फ़ोर्स तैनात है। कई थाने की फोर्स बुलाई गई है और अब कार्रवाई की तैयारी चल रही है। वहीं भीड़ ने जवान मोहन सिंह का राइफल छीनने का भी प्रयास किया है।
इस बीच खबर यह आई है कि सिटी एसपी के बॉडीगार्ड को गोली लगी है, जिसे गार्डिनर अस्पताल में भर्ती कराया गया है। दीघा थानाध्यक्ष को कुर्जी हास्पिटल में भर्ती कराया गया है।
जमीन विवाद की वजह
राजीव नगर के घुड़दौड़ रोड की जिस जमीन की वजह से हंगामा हो रहा है, वह विवादित जमीन है। 1974 में राज्य सरकार ने किसानों से राजीव नगर की 1024 एकड़ जमीन लेकर हाउसिंग बोर्ड को देने का फैसला किया था। सरकार ने जमीन हाउसिंग बोर्ड के नाम तो कर दिया, लेकिन लोकल लोगों का कहना है कि उन्हें इसके बदले मुआवजा नहीं मिला। मुआवजा नहीं मिलने के चलते किसानों ने जमीन पर कब्जा बनाए रखा और अवैध रूप से यहां मकान बनते गए। किसानों ने बिना पेपर के जमीन बेंच दी, जिस पर लोगों ने घर बना लिए। दीघा आशियाना रोड के पूर्व की तरफ 600 एकड़ जमीन पर मौजूदा समय में घनी आबादी है। सड़क के पश्चिम ओर कम आबादी है। बिहार सरकार पश्चिम की ओर की 424 एकड़ जमीन पर अतिक्रमण हटाकर हाउसिंग बोर्ड को देना चाहती है, जिसका लोग विरोध कर रहे हैं। जिन लोगों ने किसानों से जमीन खरीदकर घर बनाया है, उनका कहना है कि जीवन भर की पूंजी लगाकर जमीन खरीदा और घर बनवाया। अब घर टूट जाएगा तो कहां जाएंगे।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.