नवरात्र की धूम : डांडिया मस्ती के लिए तैयार हो रहा पटना शहर

0
754

कॉस्ट्यूम से लेकर स्टिक तक की हो रही खरीदारी, प्रैक्टिस भी हुई शुरू
पटना : शहर में दुर्गा पूजा की तैयारी जोर-शोर से चल रही है. नवरात्र में होने वाले तरह-तरह के कार्यक्रमों में शामिल होने के लिए लोग अभी से इंतजार कर रहे हैं. जिसमें सबसे ज्यादा उत्सुकता डांडिया और गरबा को लेकर देखी जा रही है.

इसे लेकर बाजारों में भी रौनक बढ़ गयी है. कोई गरबा के लिए ड्रेस की खरीदारी करने में लगा है तो कोई डांडिया के कॉस्ट्यूम के लिए एडवांस बुकिंग करा रहा है. इस बारे में कई लड़के और लड़कियों ने बताया कि नवरात्र में गरबा जैसे कार्यक्रम में शामिल होने में सबसे ज्यादा मजा आता है. इसलिए हमलोग इसकी तैयारी करने में कोई कसर नहीं छोड़ते हैं.

मार्केट में भी दिख रहा असर

डांडिया की तैयारी का असर इन दिनों मार्केट में भी दिखना शुरू हो गया है. कई लोग डांडिया से संबंधित चीजों को खरीदने में दिलचस्पी दिखा रहे हैं. डांडिया स्टिक से लेकर डांडिया की खरीदारी अभी से शुरू हो चुकी है. इस बारे में डांडिया स्टीक खरीद रहीं बोरिंग रोड की अंंतरा कहती हैं कि डांडिया की प्रैक्टिस के लिए अभी से ही ग्रुप डांस कर रहे हैं. डांडिया के लिए कुछ चीजों को पहले से पास रखना होता है, जिससे प्रैक्टिस जारी रहे.

वहीं, दुकानदारों का कहना है कि नवरात्र शुरू होने के करीब महीना भर पहले से ही डांडिया की चीजें मौजूद रखना पड़ता है. इसकी मांग बहुत ज्यादा बढ़ रही है. इधर कुछ सालों में डांडिया और गरबा का क्रेज काफी बढ़ गया है. अब डांडिया कई संस्थान व होटल और रेस्त्रां में भी आयोजित किये जाते हैं. इसलिए इसकी मांग बढ़ते जा रही है. ड्रेस के साथ-साथ इन दिनों ज्वेलरी भी ऑन डिमांड है.

कई संस्थानों में दिखेगी डांडिया नाइट की मस्ती

नवरात्र शुरू होने से पहले ही यहां कई संस्थानों में डांडिया नाइट की मस्ती दिखने लगी है. कई लोग अभी से डांडिया की तैयारी करने में जुटे हुए हैं. पटना की बात करें, तो इधर कुछ सालों में यहां डांडिया और गरबा का ट्रेंड काफी ज्यादा बढ़ गया है.

इसलिए लोग अब अपने-अपने छत से लेकर गार्डेन तक में डांडिया का आयोजन करने लगे हैं, जिसमें फैमिली के सदस्यों के अलावा सोसाइटी के लोग शामिल होते हैं. शहर में इनरव्हील, रोटरी, लायंस क्लब जैसे कई क्लब मेंबर्स भी डांडिया जैसे कार्यक्रम आयोजित कर रहे हैं. इस बारे में कई मेंबर्स ने बताया कि अब लोग अपने-अपने क्लब मेंबर्स द्वारा मिल कर भी डांडिया का प्रोग्राम आयोजित करते हैं. इतना ही नहीं, शहर के कई बड़े होटल, रेस्त्रां ग्राहकों को अपनी ओर आकर्षित करने के लिए भी डांडिया जैसे कार्यक्रम ऑर्गनाइज करते हैं.

डांडिया के लिए जरूरी आइटम

डांडिया ड्रेसेज लड़कियों के लिए प्रतिदिन- 250 -1500 रुपये
डांडिया ड्रेसेज लड़कों के लिए प्रतिदिन- 200 – 700 रुपये
गरबा ड्रेस प्रतिदिन- 300 से एक हजार रुपये
डांडिया स्टिक – 50 से 200 रुपये

हर उम्र के लोग हैं उत्साहित

डांडिया के लिए हर उम्र के लोगों में उत्सुकता दिख रही है. यहां छोटे बच्चे हो या बड़े उम्र के लोग सभी डांडिया की तैयारी में जुटे हुए हैं. इस बारे में रिद्धी-सिद्धी में डांडिया का पूरा डेस ट्राइ कर रही मीठापुर की रीना कहती हैैं कि मुझे डांडिया नाइट में भाग लेना है. इसलिए अपने ड्रेसअप में कोई कसर नहीं छोड़ना चाहती. वहीं अपने बेटे के लिए डांडिया ड्रेस प्रैक्टिस कर रही स्वीटी ने बताया कि मेरा बेटा विवान को डांडिया में बहुत दिलचस्पी है, इसलिए ड्रेस ट्राइ कर रही हूं.

लोगों में दिनोंदिन बढ़ता जा रहा है क्रेज

अब डांडिया का क्रेज काफी ज्यादा बढ़ गया है, इसलिए ड्रेसेज की बुकिंग शुरू हो रही है. यहां राजस्थानी, गुजराती, मराठी, कश्मीरी जैसे सभी राज्यों में प्रसिद्ध पोशाक मिलती हैं. ज्वेलरी और डांडिया स्टीक मौजूद है.

चंदा गुप्ता, ऑनर, रिद्धी-सिद्धी

नवरात्र शुरू होने में अब बहुत कम ही दिन बचे हुए हैं, इसलिए इन दिनों नवरात्र और डांडिया की शॉपिंग खूब हो रही है. यहां डांडिया स्टिक, बाजूबंद, मुकुट के अलावा अन्य तरह की ज्वेलरी मिल रही है.

कुणाल भगानी, ऑनर, पूलन पूजा भंडार

स्कूलों में भी हो रही डांडिया की तैयारी

डांडिया का असर न सिर्फ घर, मार्केट व अन्य संस्थानों में दिख रहा है बल्कि इसकी तैयारी स्कूलों में भी हो रही है. शहर के कई स्कूल के स्टूडेंट्स इन दिनों डांडिया के लिए कई फिल्मी गानों पर डांस प्रैक्टिस कर रहे हैं. इस बारे में डांस प्रैक्टिस कर रहीं डीएवी स्कूल की रेखा आनंद ने बताया कि हम लोग कई दिनों से डांडिया के लिए डांस प्रैक्टिस कर रहे हैं.

इसमें सभी स्टूडेंट्स हैं, जो अभी के समय में डांडिया की प्रैक्टिस के साथ-साथ शॉपिंग भी कर रहे हैं. वहीं स्कूल के टीचर्स व प्रोग्राम काे-ऑर्डिनेटर ऐसे समय में प्रतिभागियों के लिए कई तरह की चीजों की बुकिंग कर रहे हैं, ताकि कंपीटीशन में किसी तरह की कमी न रह जाये.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.