15 करोड़ का शौचालय घोटाला, बक्सर से बैंक मैनेजर गिरफ्तार

0
365

बिहार में 10 हजार शौचालय निर्माण के लिए करीब 15 करोड़ रुपये घोटाले की जांच कर रही पटना पुलिस ने गुरुवार को तत्कालीन गांधी मैदान के स्टेट बैंक आॅफ इंडिया के डिप्टी मैनेजर शिव शंकर झा को गिरफ्तार कर लिया है। 15 करोड़ रुपये का शौचालय घोटाला उजागर होने के बाद इसकी जांच के लिए एसआइटी की टीम बनाई गई है। आज टीम ने बक्सर एसबीआई के मुख्य प्रबंधक शिवशंकर झा को गिरफ्तार किया है और पूछताछ के लिए बक्सर से पटना लेकर आई है। एसएसपी मनु महाराज ने बताया कि टीम गुरुवार को बक्सर में छापेमारी की गई थी। डिप्टी मैनेजर को बक्सर से दबोचा गया है। बता दें कि, शौचालय घोटाला मामले में ये पहली गिरफ्तारी हुई है। गिरफ्तारी से पहले मैनेजर से पटना पुलिस की टीम पहले भी बैंक में पूछताछ कर चुकी थी। नवादा के आदि सेवा संस्थान के खाते में चेक पर बगैर हस्ताक्षर के करीब 10 करोड़ रुपये शंकर की मदद से भेजे गए थे। बुधवार को पुलिस को इस बात की जानकारी बैंक के दो कर्मियों से पूछताछ के बाद मालूम चला। बैंक मैनेजर शिवशंकर झा बक्सर से पहले पटना में पोस्टेड थे। पुलिस का कहना है कि एसआईटी उनसे पटना में पहले भी पूछताछ कर चुकी है। कल शाम एसआईटी ने इन्हें बक्सर से पटना बुलाया था। बैंक के कर्मचारियों ने बताया कि सर कल पटना में मीटिंग में जाने की बात कहकर ब्रांच से निकले थे। आपको बता दें कि जिला प्रशासन ने इसी थाने में 3 नवंबर को विनय कुमार सिन्हा, बिटेश्वर के अलावा चार एनजीओ व उससे जुड़े 8 लोगों पर करीब 14 करोड़ रुपए गबन करने के आरोप में प्राथमिकी दर्ज कराई थी। पटना के जिला अधिकारी द्वारा इस सम्बन्ध में दर्ज कराई गई प्राथमिकी के अनुसार शौचालय बनाने का पैसा सीधे लाभार्थी के खातों के बदले कुछ एनजीओ और दो व्यक्ति के खाते में ट्रांसफर किया गया। ये घोटाला लोक स्वास्थ्य अभियंत्रण विभाग का है और इसके मुख्य आरोपी हैं विनय कुमार सिन्हा जिन्होंने कार्यपालक अभियंता रहते हुए 2012 से 2015 तक दस हज़ार शौचालय के नाम पर पैसे का बंदरबांट किया। ये घोटाला विभागीय जांच के दौरान पटना के ज़िला अधिकारी द्वारा पकड़ी गई थी।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.