बिटकॉइन से अमिताभ बच्चन ने भी कमाया तगड़ा मुनाफा

0
590

सुगाता घोष, मुंबई
बिग बी बिटकॉइन की ऐसी लहर की सवारी कर रहे हैं, जिसके बारे में कम ही लोगों ने अंदाजा लगाया होगा। बच्चन परिवार ने ढाई साल पहले लगभग 1.6 करोड़ रुपये का जो स्टॉक इन्वेस्टमेंट किया था, उसकी वैल्यू अब 110 करोड़ रुपये आसपास हो चुकी है। बिटकॉइन को लेकर वॉल स्ट्रीट और कई फाइनैंशल मार्केट्स में जो दीवानगी पैदा हुई है, उसके चलते ही ऐसा हुआ।

2015 के मध्य में अपने बेटे अभिषेक के साथ मिलकर अमिताभ बच्चन ने अपने पर्सनल इन्वेस्टमेंट के तहत मेरीडियन टेक पीटीई में 1.6 करोड़ रुपये का निवेश किया था। यह सिंगापुर की एक फर्म है, जिसकी स्थापना वेंकट श्रीनिवास मीनावल्ली ने की थी। कई छोटी टेक्नॉलजी और फाइनैंशल टेक्नॉलजी कंपनियों की तरह मेरीडियन के बारे में भी कुछ ही लोग जानते थे। हालांकि पिछले हफ्ते पिक्चर नाटकीय रूप से बदल गई, जब मेरीडियन की प्राइम एसेट Ziddu.com को मीनावल्ली के ही सपॉर्ट वाली एक अन्य विदेशी कंपनी लॉन्गफिन कॉर्प ने खरीद लिया। यह अधिग्रहण लॉन्गफिन कॉर्प के अमेरिकी स्टॉक एक्सचेंज नैस्डेक पर लिस्टिंग के दो दिनों बाद किया गया।

पढ़ें: बिटकॉइन में दिल्ली-एनसीआर के निवेशकों के करोड़ों रुपये फंसे

मई 2015 में बच्चन परिवार ने जब मेरीडियन में निवेश किया था (आरबीआई की ओर से अधिकृत लिबरलाइज्ड रेमिटेंस स्कीम के तहत), तो जिद्दू ‘क्लाउड स्टोरेज और ई-डिस्ट्रिब्यूशन स्टार्टअप’ थी। दिसंबर 2017 में इसे ‘ब्लॉकचेन टेक्नॉलजी एंपावर्ड सलूशंस प्रवाइडर’ बताया गया, जो ‘विभिन्न कॉन्टिनेंट्स की क्रिप्टोकरंसीज’ का इस्तेमाल करते हुए माइक्रोफाइनैंस मुहैया कराती है। ‘ब्लॉकचेन’ और ‘क्रिप्टोकरंसी’ जैसे जादुई शब्दों का कमाल देखिए कि लॉन्गफिन का शेयर पिछले बुधवार से सोमवार के बीच 1000% से ज्यादा चढ़ गया। शुक्रवार को तो जब Ziddu.com को खरीदने की डील का ऐलान हुआ तो शेयर 2500% से ज्यादा चढ़ गया था।

पढ़ें: बड़ा सवाल, बिटकॉइन खरीद तो लेंगे पर बेचेंगे कैसे?

मीनावल्ली ने एक टेक्स्ट मेसेज में ईटी से कहा, ‘मेरीडियन टेक में अपनी होल्डिंग के बदले बच्चन पिता-पुत्र को एसेट की खरीदारी के बाद लॉन्गफिन के 250000 शेयर मिले।’ सोमवार को लॉन्गफिन का स्टॉक प्राइस 70 डॉलर था, इस तरह तब लॉन्गफिन में बच्चन परिवार की होल्डिंग की वैल्यू 1.75 करोड़ डॉलर थी, जो मौजूदा एक्सचेंज रेट के मुताबिक लगभग 114 करोड़ रुपये हुई। मीनावल्ली ने बताया, ‘ब्लॉकचेन को लेकर दुनियाभर में जो दीवानगी दिख रही है, उसके चलते ही ऐसा हुआ है।’

अब बच्चन परिवार क्या करेगा? क्या वह हिस्सेदारी बेचेगा? इस संबंध में अमिताभ को भेजे गए टेक्स्ट मेसेज का जवाब नहीं आया। लॉन्गफिन की प्रेस रिलीज के अनुसार, जिद्दू वेयरहाउस रिसीट्स पर माइक्रो-लेंडिंग करती है। इसके शेयर में बढ़ी दिलचस्पी की वजह ‘जिद्दू वेयरहाउस कॉइन’ है, जिसे कंपनी ने ‘एक स्मार्ट कॉन्ट्रैक्ट बताया है, जिससे इंपोर्टर्स और एक्सपॉर्टर्स को अपने जिद्दू कॉइंस के उपयोग की सहूलियत मिलती है।’ लॉन्गफिन का दावा है कि एक्सपॉर्टर और इंपोर्टर जिद्दू कॉइंस को इथेरियम और बिटकॉइन में बदल लेते हैं और मिलने वाली रकम का उपयोग वर्किंग कैपिटल के रूप में करते हैं।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.