वित्त मंत्रालय ने जारी की चेतावनी, कंप्यूटर हैक होगा तो डूब जाएगा बिटकॉइन में लगा पैसा

0
386

नई दिल्ली बिटकॉइन समेत तमाम क्रिप्टोकरेंसी इन दिनों बाजार में छाई हुई हैं लेकिन इनमें पैसा लगाना खतरे से खाली नहीं है. ये बातें विशेषज्ञ बताते रहे हैं और अब भारत सरकार के वित्त मंत्रालय ने भी सख्त चेतावनी लोगों के लिए शुक्रवार को जारी की है. वित्त मंत्रालय का कहना है कि वर्चुअल करेंसी पोंजी स्कीम की तरह ही है. ये शुद्ध सट्टेबाजी है जिसके कारण इसके दामों में अस्वाभाविक बदलाव आ रहा है. इस करेंसी के पीछे किसी भी तरह की प्रतिभूति या परिसंपत्ति नहीं है. पोंजी स्कीम की तरह ही वर्चुअल करेंसी में भी पैसा डूबने की पूरी आशंका है.

वित्त मंत्रालय ने कहा है कि उपभोक्ताओं को इस मामले में खास तौर पर सचेत रहना चाहिए. बिटकॉइन या अन्य की वर्चुअल करेंसी में पैसा नहीं लगाना चाहिए. चूंकि ये करेंसी डिजिटल या इलेक्ट्रॉनिक रूप में होती हैं इसलिए इनके नष्ट होने या खोने या चोरी चले जाने की आशंका ज्यादा है. सरकार की चेतावनी के मुताबिक, कंप्यूटर हैकिंग, पासवर्ड खोना, वायरस अटैक जैसी तमाम घटनाओं के फलस्वरूप बिटकॉइन या अन्य वर्चुअल करेंसी हमेशा के लिए खत्म हो जाएगी और उपभोक्ताओं की पूरी रकम डूब जाएगी. सरकार की चेतावनी के मुताबिक, चूंकि इनके ट्रांजैक्शन एनक्रिप्टिड होते हैं इसलिए अवैध धंधों जैसे कि आतंकी फंडिंग, तस्करी, ड्रग ट्रैफिकिंग और विभिन्न तरीकों की मनी लांड्रिंग में इनके इस्तेमाल की आशंका ज्यादा है. वर्चुअल करेंसी को सरकार या इसकी किसी भी संस्था से मान्यता नहीं है. ये कोई मुद्रा भी नहीं है. इसका भौतिक स्वरूप नहीं है और न ही आप इसे जेब में रख सकते हैं. इसलिए इसे खरीदना, इसमें निवेश करना और इससे दूसरी चीजें खरीदना खतरनाक हो सकता है. बिटकॉइन लेकर पहले भी रिजर्व बैंक स्पष्ट कर चुका है कि भारत में इसे कोई कानूनी मान्यता हासिल नहीं है और इनमें पैसा लगाना खतरनाक है.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.