डॉक्टरों की हड़ताल खत्म, वापस काम पर लौटे डॉक्टर

0
913

आइएमए के आह्वान पर देश भर के चिकित्सकों के साथ बिहार के डॉक्टर्स भी आज हड़ताल पर रहे, लेकिन सुबह से शुरू हुई हड़ताल दोपहर बाद खत्म हो गई।
पटना। इंडियन मेडिकल एसोसिएशन (आइएमए) के आह्वान पर मंगलवार को देशभर के डॉक्टर हड़ताल पर चले गए थे। लेकिन दोपहर बाद डॉक्टरों ने अपनी हड़ताल वापस ले ली और काम पर लौट आए। हड़ताल की वजह से सुबह से दोपहर तक चिकित्सा व्यवस्था पूरी तरह ठप रही जिससे मरीजों को काफी परेशानी हुई।पीएमसीएच की ओपीडी में डॉक्टरों के नहीं पहुंचने से मरीजों को परेेशानी हुई तो वहीं एनएमसीएच और न्यू गार्डिनर रोड अस्पताल में डॉक्टर मौजूद रहे। दरभंगा के डीएमसीएच में आइएमए के आह्वान पर जारी हड़ताल की वजह से ओपीडी सेवा ठप रही। हालांकि, मुजफ्फरपुर के एसकेएससीएच में इमर्जेंसी में इलाज की व्यवस्था की गई थी।मधुबनी के सरकारी अस्पताल में भी चिकित्सकों की हड़ताल की वजह से चिकित्सा व्यवस्था ठप हो गई है।आइएमए के बिहार शाखा के अध्यक्ष डॉ. सहजानंद सिंह एवं सचिव डॉ. ब्रजनंदन कुमार ने कहा था कि केंद्र सरकार की चिकित्सक विरोधी नीतियों के खिलाफ डॉक्टर मंगलवार को हड़ताल पर हैं।डॉ. कुमार ने कहा कि सरकार मेडिकल काउंसिल आफ इंडिया की जगह नेशनल मेडिकल काउंसिल बिल ला रही है। उसका आइएमए ने विरोध करने का निर्णय लिया है। केंद्र सरकार इसके बावजूद भी अपनी नीतियों में सुधार नहीं करती है, तो भविष्य में अनिश्चितकालीन हड़ताल पर जाने को विवश हो जाएंगे।आइएमए बिहार के उपाध्यक्ष डॉ. हरिहर दीक्षित का कहना है कि केंद्र सरकार एक तरफ एमबीबीएस करने वाले डॉक्टरों को प्रैक्टिस करने के लिए परीक्षा पास करना अनिवार्य कर रही है।वहीं दूसरी ओर आयुर्वेद और होमियोपैथी की पढ़ाई करने वाले डॉक्टरों को बिना परीक्षा के ही एलोपैथ की दवा लिखने का इजाजत दे रही है। यह केंद्र की दोहरी नीति है। सरकारी की ऐसी नीतियों का आइएमए विरोध जारी रखेगा।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.