जानें, भारतीय मूल के ‘जिहादी जॉन’ के बारे में 10 बातें

0
578

अमेरिका ने मंगलवार को भारतीय मूल के ब्रिटिश इस्लामिक स्टेट आतंकवादी सिद्धार्थ धर को अपनी ग्लोबल टेररिस्ट लिस्ट में शामिल किया है। इस सूची में शामिल होने के बाद अब अमेरिकी सरकार को अपने देश में सिद्धार्थ धर पर प्रतिबंध लगाने और उसकी संपत्तियों को फ्रीज करने का अधिकार होगा। ‘नए जिहादी जॉन’ के बारे में जानें सबकुछ…

1. सिद्धार्थ धर एक ब्रिटिश हिंदू है जिसने धर्म बदलकर इस्लाम अपनाया था और उसका नाम अबू रुमैसाह हो गया।

2. धर अल मुहाजिरुन नाम के आतंकी संगठन का मुख्य सदस्य था। यह संगठन अब खत्म हो गया है।

3. साल 2014 में रुमैसाह को यूके पुलिस ने बेल दी थी, जिसके बाद वह फरार होकर अपनी पत्नी और बच्चों के साथ ISIS में शामिल होने के लिए सीरिया चला गया था।

4. धर खूंखार आतंकी संगठन आईएस का एक सीनियर कमांडर बन गया और फिर उसने ‘जिहादी जॉन’ के नाम से पहचाने जाने वाले मोहम्मद एमवाजी की जगह ले ली।

5. अमेरिकी विदेश मंत्रालय ने बताया कि उन्हें ऐसा शक है कि जनवरी 2016 में ISIS के कुछ बंधकों को फांसी देने वाले विडियो में धर ही लीडर था।

6. आईएसआईएस द्वारा सेक्स स्लेव बनाई गई एक यजीदी लड़की निहाद बरकात ने मई 2016 में इंडिपेंडेंट को बताया था कि उसे धार ने ही किडनैप किया था और आईएसआईएस के गढ़ मोसुल ले गया था।

7. अमेरिका के विदेश मंत्रालय ने इस्लामिक स्टेट के दो आतंकी सिद्धार्थ धर और बेल्जियन-मोरक्कन नागरिक अब्दुल लतीफ गनी को वैश्विक आतंकी घोषित कर दिया है।

8. इस अधिसूचना से अमेरिकी लोगों और अंतरराष्ट्रीय समुदाय को यह बताया गया है कि धर और गनी ने बड़ी आतंकी गतिविधियों को अंजाम दिया है या उनके ऐसा करने का जोखिम बना हुआ है।

9. इस सूची में शामिल होने के बाद अब धर और गनी के लिए उन संसाधनों तक पहुंच पर रोक होगी जिससे उन्हें आतंकी हमले की योजना बनाने में मदद मिलती हो।

10. इस प्रतिबंध के बाद अमेरिका में मौजूद धर और गनी की संपत्ति जब्त हो जाएगी और अमेरिका का कोई भी नागरिक उनसे किसी तरह का लेन-देन नहीं कर पाएगा।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.