सेंसेक्स पहली बार 36,000 के पार

0
615

बीते सप्ताह घरेलू बाजार में जोरदार तेजी दर्ज की गई। बंबई शेयर बाजार (बीएसई) का सेंसेक्स पहली बार 36,000 अंक के पार पहुंच गया। जबकि नेशनल स्टॉक एक्सचेंज (एनएसई) का निफ्टी भी नई ऊंचाई के साथ 11,000 के मनोवैज्ञानिक स्तर को पार कर बंद हुआ।

539 अंक चढ़ा सेंसेक्स
शुक्रवार को गणतंत्र दिवस के दिन छुट्टी के कारण शेयर बाजार बंद रहे। इस तरह सिर्फ चार कारोबारी दिनों में साप्ताहिक आधार पर सेंसेक्स 539 अंकों या 1.52 फीसदी की तेजी के साथ 36,050 पर बंद हुआ। जबकि निफ्टी 175 अंकों या 1.61 फीसदी की बढ़ोतरी के साथ 11,070 पर बंद हुआ। बीएसई के मिडकैप सूचकांक में 0.43 फीसदी तथा स्मॉलकैप सूचकांक में 0.59 फीसदी की तेजी दर्ज की गई।

ओएनजीसी-टीसीएस में सबसे ज्यादा रिटर्न
पिछले सप्ताह सेंसेक्स की कंपनियों नें शामिल ओएनजीसी और टाटा कंसल्टेंसी सर्विसेज (टीसीएस) के निवेशकों ने सबसे ज्यादा कमाई की। ओएनजीसी में 7.57 फीसदी और टीसीएस में 5.52 फीसदी का रिटर्न मिला। इसके बाद कोल इंडिया का स्थान रहा जिसमें 5.34 फीसदी का रिटर्न मिला। रिलायंस इंडस्ट्रीज 3.79 फीसदी, एलएंडटी 2.99 फीसदी,बजाज ऑटो 2.97 फीसदी, आईटीसी 2.56 फीसदी और इन्फोसिस 2.41 फीसदी लाभ के साथ बंद हुए।

बैंकिंग शेयरों ने भी किया मालामाल
बैंकिंग शेयरों में यस बैंक के निवेशकों को सबसे अधिक 4.06 फीसदी का रिटर्न मिला। जबकि एक्सिस बैंक 3.98 फीसदी, कोटक महिंद्रा बैंक 2.97 फीसदी, इंडसइंड बैंक 2.71 फीसदी,आईसीआईसीआई बैंक 1.34 फीसदी और स्टेट बैंक ऑफ इंडिया में 1.33 फीसदी का रिटर्न मिला।

एयरटेल-विप्रो में तगड़ा झटका
पिछले हफ्ते निवेशकों को सबसे अधिक नुकसान दूरसंचार क्षेत्र की सबसे बड़ी कंपनी भारती एयरटेल में हुआ। इसके शेयर 9.07 फीसदी टूटकर बंद हुए। इसके बाद विप्रो में सबसे अधिक 5.02 फीसदी का नुकसान हुआ। एशियन पेंट्स 3.66 फीसदी, महिंद्रा एंड महिंद्रा 1.11 फीसदी, हीरो मोटोकॉर्प 0.59 फीसदी)और मारुति सुजुकी इंडिया 0.59 फीसदी गिरावट के साथ नुकसान वाले प्रमुख शेयरों में शामिल रहे।आर्थिक रफ्तार बढ़ने की उम्मीद से चढ़ा बाजार
बाजार विशेषज्ञों ने कहा कि घरेलू शेयर बाजारों की इस तेजी में अंतरार्ष्ट्रीय मुद्रा कोष (आईएमएफ) की उस रिपोर्ट का प्रमुख योगदान रहा, जिसमें वित्त वर्ष 2018-19 में भारतीय अर्थव्यवस्था में तेजी आने का अनुमान लगाया गया है। आईएमएफ ने कहा है कि भारतीय अर्थव्यवस्था दुनिया की सबसे तेजी से बढ़नेवाली अर्थव्यवस्था होगी। आईएमएफ ने अपने जनवरी के अपडेट में कहा कि भारत की वृद्धि दर वित्त वर्ष 2018-19 में 7.4 फीसदी रहेगी। जबकि पहले के अनुमान में इसे 6.7 फीसदी बताया गया था और वित्त वर्ष 2019-20 में भारत की वृद्धि दर 7.8 फीसदी रहेगी।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.