अयोध्या में राम मंदिर के लिए 28 साल बाद फिर निकलेगी राम रथयात्रा

0
348

अयोध्या
28 साल पहले लालकृष्ण आडवाणी ने अयोध्या में राम मंदिर के निर्माण के लिए राम रथयात्रा निकाली थी। अब महाराष्ट्र की संस्था श्री रामदास मिशन यूनिवर्सल सोसायटी और विश्व हिंदू परिषद ने एक बार फिर से रामराज्य रथयात्रा निकालने का फैसला लिया है। यह रथयात्रा अयोध्या से तमिलनाडु के रामेश्वरम तक निकाली जाएगी।
सीएम दिखा सकते हैं हरी झंडी
इस राम रथ यात्रा का अजेंडा भी 28 साल पहले निकाली गई रथयात्रा की तरह अयोध्या में विवादित भूमि पर राम मंदिर बनाए जाने की मांग को लेकर है। कारसेवकपुरम हाउसिंग की तरफ से प्रस्तावित राम मंदिर को लेकर कार्यशाला महाशिवरात्रि के दिन 13 फरवरी को प्रस्तावित है। इसी दिन इस यात्रा की शुरुआत हो सकती है। सूत्रों की मानें तो इस यात्रा को मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ हरी झंडी देंगे।
जल्द ही रामजन्मभूमि के पास बनेगा नया राम मंदिर
6 राज्यों से गुजरेगी रथयात्रा
यात्रा का समापन राम नवमी (25 मार्च) को होगा। इस दौरान केंद्र सरकार से प्राथमिकता के तौर पर 14 महीने के अंदर राम मंदिर बनाए जाने की मांग की जाएगी। यात्रा 6 राज्यों उत्तर प्रदेश, महाराष्ट्र, मध्य प्रदेश, कर्नाटक, केरल और तमिलनाडु से होकर गुजरेगी।
प्रस्तावित राम मंदिर की आकृति पर बना है रथ
रामराज्य रथ यात्रा के लिए विशेष रथ तैयार किया गया है। 25 लाख रुपये से बने इस रथ को 4 महीने में बनाया गया है। लकड़ी से बने इस रथ में दक्षिण भारतीय मसालों का प्लास्टर लगाया गया है। इसमें 28 घुमावदार पिलर्स बनाए गए हैं। आयोजकों का कहना है कि रथ की जो आकृति है वह प्रस्तावित राम मंदिर की तरह है। रथ शुक्रवार की शाम तक लखनऊ और फिर वहां से शनिवार तक अयोध्या पहुंचेगा।
राम मंदिर: VHP बोली- कोर्ट का फैसला महज औपचारिकता, सड़क पर संघर्ष की तैयारी पूरी!
’14 महीने में बने राम मंदिर’
श्री रामदास मिशन यूनिवर्सल सोसायटी के राष्ट्रीय महासचिव श्री शक्ति शांतानंद महार्षि ने कहा कि वह लोग चाहते हैं कि देश में रामराज्य हो। भगवान राम 14 साल बाद अयोध्या वापस आए थे उसी तरह सरकार को 2019 तक 14 महीने के अंदर अयोध्या में राम मंदिर बनवा देना चाहिए। उन्होंने कहा कि उन लोगों ने कुछ महीने पहले मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ से मुलाकात की थी। सीएम ने उन लोगों का आश्वासन दिया है कि वह रथयात्रा को को हरी झंडी दिखाएंगे।
8 फरवरी से शुरू हो रही अयोध्या केस की सुनवाई, पूरे देश की होगी नजर
2019 में तिरुवनंतपुरम से वापस आएगा रथ
अयोध्या में उद्घाटन समारोह दोपहर में 1 बजे से शाम को 4 बजे तक होगा। इस दौरान संतों की बैठक भी होगी। शाम को 4 बजे से 6 बजे तक रथ की शोभा यात्रा केशवपुरम से निकाली जाएगी। संगठन के उत्तर प्रदेश यूनिट के महासचिव भीम सिंह ने बताया कि शुक्रवार की शाम को यात्रा नंदीग्राम में समाप्त होगी। वहां रुकने के बाद अगले दिन सुबह यात्रा वाराणसी के लिए निकलेगी। वाराणसी से प्रयाग, चित्रकूट, उज्जैन, नासिक, बदलापुर, बेंगलुरु होते हुए रथ यात्रा रामेश्वरम पर खत्म होगी। संगठन के तिरुवनंतपुरम स्थित मुख्यालय में रथ को सुरक्षित रखा जाएगा। यहां से 2019 में रथ वापस अयोध्या भेजा जाएगा।
विश्व हिंदू परिषद अवध जोन के समन्वयक शरद शर्मा ने बताया कि वीएचपी रथ यात्रा को सपॉर्ट कर रही है लेकिन उसका हिस्सा नहीं है। यहां तक कि विश्व हिंदू परिषद का बैनर भी रथ यात्रा के साथ नहीं होगा।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.